लता मंगेशर, सचिन तेंडुलकर की जांच पर महाराष्ट्र के गृहमंत्री ने क्यों लिया यूटर्न?

महाराष्ट्र सरकार ने भारत रत्न लता मंगेशकर और क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर के ट्वीट की जांच करने के आदेश के मामले में यू टर्न ले लिया है।

भारत रत्न लता मंगेशकर और महान क्रिकेटर सचिन तेंडुलकर के ट्वीट की जांच करने का आदेश देनेवाले महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने यू टर्न ले लिया है। उन्होंने कहा है कि ये दोनों देश की महान हस्तियां हैं। इसलिए इनके ट्वीट की जांच का सवाल ही नहीं उठता।

गृह मंत्री ने कहा कि लता मंगेशकर हमारे लिए भगवान की तरह हैं और सचिन तेंडुलकर की पूरे देश ही नहीं, पूरी दुनिया में सम्मान है। इस हालत में उनके ट्वीट की जांच का प्रश्व ही नहीं उठता। देशमुख ने कहा कि मैंने कहा था कि जिस तरह से ये ट्विट किए गए, उसे देखते हुए भारतीय जनता पार्टी के आईटी सेल की जांच की जाएगी। देशमुख ने कहा कि मीडिया ने उनके बयान को गलत तरीके से पेश किया।

क्या है मामला?
बता दें कि किसान आंदोलन पर अमेरिकी पॉप सिंगर रिहाना और स्वीडीश पर्यावरण कार्यर्ता ग्रेटा थनबर्ग तथा पॉर्न स्टार मिया खलीफा ने ट्वीट किए थे। अपने ट्वीट में उन्होंने किसान आंदोलन का समर्थन किया था। इसके जवाब में लता मंगेशकर, सचिन तेंडुलकर, अक्षय कमुार, अजय देवगन और सुनील शेट्टी जैसी हस्तियों ने ट्वीट करते हुए कहा था कि बाहरी लोगों को भारत की संप्रभुता का ख्याल रखना चाहिए, और उन्हें भारत के घरेलू मामले में दखल नहीं देना चाहिए। उन्होंने भारत की एकता और अखंडता का भी हवाला दिया था।

ये भी पढ़ेंः नेपाल व श्रीलंका में सरकार बनाना चाहती है भाजपा?..जानिये क्या है सच

कांग्रेस ने की थी मांग
इन हस्तियों के ट्वीट को लेकर कांग्रेस प्रवक्ता सचिन सावंत ने गृह मंत्री अनिल देसमुख से जांच की मांग की थी। उन्होंने कहा था कि इनके ट्वीट एक ही तरह के हैं। इसके बाद महाराष्ट्र सरकरा ने जांच के आदेश दिए थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here