भाजपा नेताओं ने इसलिए लगा दी पुलिस थानों की दौड़?

ब्रूक फार्मा नामक एक निर्यातक कंपनी के मालिक को पुलिस ने पूछताछ के लिए बुलाया था। इस प्रकरण में पुलिस को फार्मा कंपनी पर कोरोना की सबसे कारगर दवा रेमडेसवीर एंजेक्शन का स्टॉक और उसकी कालाबाजारी की आशंका थी। इस प्रकरण में भाजपा नेताओं के पुलिस थाने जाने और कंपनी के निदेशक के छूट जाने के बाद सरकार की ओर से भाजपा नेताओं पर टिप्पणियां की गई थीं।

भारतीय जनता पार्टी के नेता पुलिस थानों के चक्कर काट रहे हैं। महाराष्ट्र विकास आघाड़ी सरकार के नेताओं और समर्थक के विरुद्ध भाजपा नेताओं ने लिखित शिकायत दी है। जिसमें भारतीय जनता पार्टी के नेता और केंद्र सरकार के विरुद्ध दुष्प्रचार प्रसारित करने का आरोप लगाया गया है।

दरअसल, यह मामला शुरू हुआ था दिनांक 17 अप्रैल 2021 को जब कैबिनेट मंत्री नवाब मलिक ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया था कि वो दवा कंपनियों को धमका रही है कि वे महाराष्ट्र को रेमडेसवीर का इंजेक्शन न दें। मंत्री ने ऐसी कंपनियों के स्टॉक को जब्त करने की धमकी भी दी थी। नवाब मलिक के इस आरोप के विरुद्ध कांदीवली से भाजपा विधायक अतुल भातखलकर ने दिंडोशी पुलिस थाने में जाकर शिकायत पत्र दिया है।

दूसरे प्रकरण में मलबार हिल के विधायक और मुंबई भाजपा अध्यक्ष मंगल प्रभात लोढा ने शिकायत पत्र दिया है। लोढा ने शिवसेना विधायक संजय गायकवाड के विरुद्ध शिकायत दी है। लोढा का आरोप है कि संजय गायकवाड ने नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फडणवीस के मुंह में वायरस ठूंसने की धमकी दी थी।

भाजपा नेताओं ने तीसरा प्रकरण ओशीवरा पुलिस थाने में दर्ज कराया। उत्तर भारतीय प्रकोष्ठ के अध्यक्ष संजय पाण्डे ने कांग्रेस के एक समर्थक पर दुष्प्रचार का आरोप लगाते हुए शिकायत पत्र पुलिस को सौंपा है।

राज्य में शुरू राजनीतिक उठापटक के बीच सरकार और विपक्ष के मध्य गहरी खाई बनती जा रही है। इस बीच कोरोना का संक्रमण तेजी से पसर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here