Sikkim Landslide: सिक्किम भूस्खलन के बाद लाचुंग से 50 पर्यटकों को किया गया रेस्क्यू

हालांकि, खराब मौसम के कारण बचाव अभियान रोकना पड़ा और शेष पर्यटकों को मंगलवार को भेजा जाएगा।

296

Sikkim Landslide: सीमा सड़क संगठन (border roads organisation) (बीआरओ) ने बताया कि सोमवार को उत्तरी सिक्किम (North Sikkim) के लाचुंग से करीब 50 पर्यटकों को बचा (50 tourists rescued) लिया गया और उन्हें मंगन कस्बे में पहुंचाया गया।

हालांकि, खराब मौसम के कारण बचाव अभियान रोकना पड़ा और शेष पर्यटकों को मंगलवार को भेजा जाएगा। बीआरओ द्वारा तीस्ता नदी पर हाल ही में टूंग में बनाए गए पुल के माध्यम से चुंगथांग और मंगन के बीच संपर्क बहाल करने के बाद बचाव अभियान शुरू हुआ। एक बयान में कहा गया, “बीआरओ नागरिक प्रशासन और एनडीआरएफ की टीम के साथ निकट समन्वय में विशाल निकासी अभियान का नेतृत्व कर रहा है।”

यह भी पढ़ें- Wayanad Bypoll: रायबरेली लोकसभा सीट बरकरार रखेंगे राहुल गांधी, वायनाड उपचुनाव लड़ेंगी प्रियंका

1,200-1,500 पर्यटक फंसे
12 जून से लगातार हो रही बारिश ने मंगन में तबाही मचा दी है, जिससे कई भूस्खलन हुए हैं और जिले के अधिकांश हिस्सों से संपर्क टूट गया है। अधिकारियों ने बताया कि कई स्थानों पर विभिन्न सड़कों के अवरुद्ध होने के कारण लाचुंग शहर में लगभग 1,200-1,500 पर्यटक फंस गए हैं।

यह भी पढ़ें- Reasi के आतंकवादी हमले पर मुसलमान मौन क्यों?

15 विदेशी पर्यटक भी शामिल
पहले की रिपोर्टों के अनुसार, इनमें 15 विदेशी पर्यटक भी शामिल थे, जो सड़क अवरोधों के कारण लाचुंग में फंसे हुए थे। उन्होंने बताया कि संकलंग में नवनिर्मित सस्पेंशन ब्रिज के ढहने के बाद स्थिति गंभीर हो गई, क्योंकि यह उत्तरी सिक्किम और द्ज़ोंगू को जोड़ने वाला मुख्य पुल था। बयान में कहा गया है, “क्षेत्र में खराब मौसम की स्थिति और भारी वर्षा पर काबू पाकर प्राकृतिक आपदा का जवाब देते हुए, बीआरओ ने जल्द से जल्द उत्तरी सिक्किम से संपर्क बहाल करने के लिए भारी जनशक्ति और मशीनरी जुटाकर बहाली के प्रयास शुरू किए।”

यह भी पढ़ें- Kanchanjunga Express Accident: मानवीय भूल या तकनीकी खराबी किस कारण हुआ कंचनजंगा एक्सप्रेस हादसे?

उत्तरी सिक्किम में फंसे पर्यटक
इसमें कहा गया है, “प्रोजेक्ट स्वास्तिक के तहत 758 बीआरटीएफ की बहादुर टीम द्वारा त्वरित और कुशल प्रतिक्रिया ने एक बार फिर महत्वपूर्ण संपर्क बहाल करने और उत्तरी सिक्किम में फंसे पर्यटकों को बचाने में उनकी निस्वार्थ प्रतिबद्धता, लचीलापन और दृढ़ संकल्प को प्रदर्शित किया।”

यह वीडियो भी देखें-

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.