Manipur Violence: मणिपुर में मैतेई-कुकी का विवाद होगा ख़त्म? जानिए अमित शाह ने क्या कहा

मैतेई और कुकी समुदायों के बीच झड़पें जातीय संघर्ष की थीं और इसलिए उन्हें बल के माध्यम से हल नहीं किया जा सकता है।

333

Manipur Violence: केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने कहा है कि सरकार मणिपुर (Manipur) में स्थायी शांति लाने के लिए मैतेई और कुकी समुदायों (Meitei and Kuki communities) के बीच विश्वास की कमी को दूर करने पर काम कर रही है और लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Elections) खत्म होने के बाद इस प्रक्रिया को सर्वोच्च प्राथमिकता के साथ तेजी दी जाएगी।

अमित शाह ने 25 मई (शनिवार) को एक साक्षात्कार में पीटीआई को बताया कि मैतेई और कुकी समुदायों के बीच झड़पें जातीय संघर्ष की थीं और इसलिए उन्हें बल के माध्यम से हल नहीं किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें- Bihar News: तेजस्वी यादव ने पीएम मोदी को लिखा पत्र, जानें क्या कहा?

जातीय हिंसा का मुद्दा
पूर्वोत्तर राज्य में हिंसा का दौर पर जब उनसे पूछा गया कि क्या सरकार को इसे ख़त्म करने के लिए कोई कड़ी कार्रवाई करने की ज़रूरत है, तो उन्होंने कहा, “यह दंगों या आतंकवाद का मुद्दा नहीं है। यह जातीय हिंसा का मुद्दा है। इसे बल के माध्यम से हल नहीं किया जा सकता है। यह जातीय हिंसा है।” गृह मंत्री ने कहा कि यह हिंसा दोनों समुदायों के बीच चर्चा की कमी और विश्वास की कमी के कारण हुई, जो कुछ घटनाओं के कारण हुई थी।

यह भी पढ़ें- Lok Sabha Election 2024: “नेक नीयत व नीतियों के कारण केंद्र में तीसरी बार भी बनेगी भाजपा सरकार”- नरेन्द्र मोदी का विपक्ष पर हमला

सरकार इस पर सर्वोच्च प्राथमिकता देगी
उन्होंने कहा, “हमें इसकी मरम्मत करनी होगी। यह समय लेने वाला काम है। हम इस पर तेजी से काम कर रहे थे। लेकिन चुनाव के कारण इसमें देरी हुई है। यह बिल्कुल स्वाभाविक है।” उन्होंने कहा, “क्योंकि, दोनों समुदायों के नेता संबंधित समुदाय के हितों या अपने-अपने राजनीतिक मुद्दों के बारे में बात कर रहे हैं। लेकिन गिनती के बाद सरकार इस पर सर्वोच्च प्राथमिकता के साथ काम करेगी। मेरा मानना है कि इसमें कोई हिंसा नहीं होगी।”

यह भी पढ़ें- Swati Maliwal Case: स्वाति मालीवाल ने ध्रुव राठी को ‘विक्टिम ब्लेमिंग’ का ठहराया जिम्मेदार, बोली- ‘मिल रहीं हैं धमकियां’

अनुसूचित जनजाति का दर्जा देने की मांग
बहुसंख्यक मैतेई समुदाय की अनुसूचित जनजाति का दर्जा देने की मांग के विरोध में मणिपुर के पहाड़ी जिलों में आदिवासी एकजुटता मार्च के बाद 3 मई, 2023 को मणिपुर में जातीय हिंसा भड़क उठी। तब से जारी हिंसा में दोनों समुदायों के 220 से ज्यादा लोग और सुरक्षाकर्मी मारे जा चुके हैं। मणिपुर में 2017 से बीजेपी के नेतृत्व वाली सरकार सत्ता में है। राज्य में दो लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र हैं: आंतरिक मणिपुर और बाहरी मणिपुर। जहां भाजपा ने पूर्व में अपना उम्मीदवार खड़ा किया था, वहीं बाद में पार्टी ने एनडीए सहयोगी नागा पीपुल्स फ्रंट (एनएसएफ) के उम्मीदवार को समर्थन दिया।

यह वीडियो भी देखें-

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.