Lok Sabha Elections 2024: ‘सभी वामपंथी सरकारों का चरित्र एक समान है: केरल में पीएम मोदी

प्रधानमंत्री ने कहा कि कांग्रेस और वामपंथियों की विश्वसनीयता ऐसी है कि दशकों के शासन के बाद भी उनके पास अपनी उपलब्धियों के रूप में गिनाने के लिए कुछ भी नहीं है।

121

Lok Sabha Elections 2024: भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party) (भाजपा) के वरिष्ठ नेता और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Narendra Modi) ने 15 अप्रैल (आज) केरल (Kerala) में एक चुनावी रैली में यूडीएफ (UDF) और एलडीएफ (LDF) पर तीखा प्रहार किया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस और वामपंथियों की विश्वसनीयता ऐसी है कि दशकों के शासन के बाद भी उनके पास अपनी उपलब्धियों के रूप में गिनाने के लिए कुछ भी नहीं है। मोदी अपने केरल प्रवास के दौरान अलाथुर के बाद आट्टिंगल में दूसरी चुनावी रैली को संबोधित कर रहे थे।

प्रधानमंत्री ने कहा कि कांग्रेस और वामपंथियों की विश्वसनीयता ऐसी है कि दशकों के शासन के बाद भी उनके पास अपनी उपलब्धियों के रूप में गिनाने के लिए कुछ भी नहीं है। जब वे लोगों के बीच जाते हैं तो झूठ बोलकर केंद्र सरकार की योजनाओं का श्रेय लेने का प्रयास करते हैं। मोदी ने सवाल किया, “आज केरल के कई हिस्सों में जल संकट पैदा हो गया है। लोगों को पानी नहीं मिल रहा है। इसका श्रेय किसे लेना चाहिए? आज केरल का कॉयर उद्योग बंद होने के कगार पर है। कॉयर उद्योग के श्रमिकों की आजीविका दांव पर है। इसका श्रेय कौन लेगा?”

यह भी पढ़ें- Lok Sabha Elections 2024: पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ के घर क्यों पहुंची पुलिस?

प्रमुख पर्यटन स्थलों का समग्र विकास
उन्होंने भाजपा के हाल में जारी घोषणा पत्र को लेकर कहा कि भाजपा ने अपने संकल्प पत्र में घोषणा की है कि हम वैश्विक पर्यटकों को अपनी विरासत से जोड़ेंगे और अपनी विरासत को विश्व विरासत का दर्जा देंगे। केरल में ऐसा होने की बहुत संभावना है। उन्होंने कहा कि भाजपा की योजना प्रमुख पर्यटन स्थलों का समग्र विकास है। भाजपा केरल में इको-पर्यटन के लिए नए केंद्र भी स्थापित करेगी। इससे हमारे आदिवासी परिवारों को होमस्टे के लिए वित्तीय मदद भी मिलेगी।

यह भी पढ़ें- Lok Sabha Elections 2024: गया में पूर्व मुख्यमंत्री के खिलाफ राजद के कुमार सर्वजीत, जानें चुनावी गणित

मछुआरों को काफी मदद
भाजपा के संकल्प पत्र पर अधिक प्रकाश डालते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने जोर दिया, “भाजपा ने अपने संकल्प पत्र में तटीय रेखा संरक्षण पर ध्यान केंद्रित करने के लिए प्रतिबद्धता जताई है। इस पहल से केरल में मछुआरों को काफी मदद मिलेगी। हमारे प्रयासों का उद्देश्य उनकी आजीविका की रक्षा करना होगा।” उन्होंने कहा कि हम मत्स्य उत्पादन और प्रसंस्करण के लिए समर्पित नए क्लस्टर स्थापित करेंगे।

यह वीडियो भी देखें-

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.