Lok Sabha Election Results: संसद में पहुंचे तीन अलगाववादी नेता! जानिये, कौन हैं वो और उन पर क्या हैं आरोप

मतगणना के नवीनतम रुझानों में जेल में बंद खालिस्तान समर्थक नेता अमृतपाल सिंह, कश्मीरी राजनीतिज्ञ इंजीनियर राशिद और बेअंत सिंह के पुत्र सरबजीत सिंह खालसा चुनाव जीत चुके हैं।

455

Lok Sabha Election Results: लोकसभा चुनाव 2024 कई मामलों में खास है। इस चुनाव में जहां एग्जिट पोल के अनुमान को गलत साबित किया, वहीं उत्तर प्रदेश में भाजपा की उम्मीद से कई गुना बुरा प्रदर्शन रहा। इसके साथ ही इस चुनाव में तीन अलगाववादी नेता भी जीत गए। इनमें से एक .. इंजीनियर हैं। उन पर टेरर फंडिंग का आरोप है और वर्तमान में वे तिहाड़ जेल में बंद हैं। इनके साथ ही पंजाब से दो खालिस्तान समर्थक नेता भी जीत गए हैं।

मतगणना के नवीनतम रुझानों में जेल में बंद खालिस्तान समर्थक नेता अमृतपाल सिंह, कश्मीरी राजनीतिज्ञ इंजीनियर राशिद और बेअंत सिंह के पुत्र सरबजीत सिंह खालसा चुनाव जीत चुके हैं। तीनों चेहरों पर अलग अलग मामलो में अलगाववाद और भारत विरोधी एजेंडे को आगे बढ़ाने का आरोप है। जानिये, कौन हैं वो और उन पर क्या हैं आरोप

यह भी पढ़ें- Lok Sabha election results: हिमाचल की चारों लोकसभा सीटों पर भाजापा की जीत, जयराम ठाकुर ने इस नेता को दिया जीत का श्रेय

अमृतपाल सिंह
पंजाब (Punjab) के खडूर साहिब (Khadoor Sahib) सीट पर जेल में बंद खालिस्तानी अलगाववादी अमृतपाल सिंह (Amritpal Singh) ने 1,89,758 वोटों से जीत दर्ज किया है, उसको कुल मत 3,94,854 मिला। उसका मुकाबला कांग्रेस के कुलबीर सिंह जीरा (KULBIR SINGH ZIRA) से था। अमृतपाल सिंह ‘वारिस पंजाब दे’ के प्रमुख हैं और वर्तमान में राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) के तहत असम की डिब्रूगढ़ जेल में बंद हैं।

यह भी पढ़ें- Lok Sabha Election Results: गांधीनगर सीट से केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह विजयी, जानें कितने मतों का रहा अंतर

कौन है अमृतपाल सिंह?
अप्रैल 2023 में अमृतपाल सिंह की तलाश में बड़े पैमाने पर अभियान चलाया गया, जिसके परिणामस्वरूप 300 युवाओं को गिरफ़्तार किया गया, जिनमें से कई ने उससे संपर्क किया था और कोई अपराध नहीं किया था। विशेषज्ञों का कहना है कि अमृतपाल सिंह और सरबजीत खालसा के फिर से उभरने को अलगाववादी समस्या के बजाय विकास के मुद्दे के रूप में देखा जाना चाहिए। अमृतपाल सिंह ने अपने नशा विरोधी अभियान और अलग राज्य की मांग के लिए ध्यान आकर्षित किया था।

यह भी पढ़ें- J-K Election Result 2024: जम्मू-कश्मीर में लोकसभा चुनाव में बड़ा उलटफेर, उमर और महबूबा हारे

सरबजीत सिंह खालसा
पंजाब (Punjab) के फरीदकोट (Faridkot) सीट पर इंदिरा गांधी के हत्यारे का बेटा सरबजीत सिंह खालसा (Sarabjit Singh Khalsa) ने 70, 246 वोटों से जीत दर्ज किया है, उसको कुल मत 2,96,922 मिला। उसका मुकाबला आप के करमजीत सिंह अनमोल (Karamjit Singh Anmol) से था।

यह भी पढ़ें- Lok Sabha Election Results: वाराणसी सीट से पीएम नरेंद्र मोदी की हैट्रिक, जानें कितने मतों से प्राप्त की जीत

कौन है सरबजीत सिंह खालसा?
पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्याओं में से एक दिवंगत बेअंत सिंह के 45 वर्षीय बेटे सरबजीत सिंह ने पंजाब की फरीदकोट सीट से राष्ट्रीय चुनाव जीता है। बेअंत सिंह और सतवंत सिंह, जो तत्कालीन प्रधान मंत्री के अंगरक्षक थे, ने 31 अक्टूबर 1984 को अपने आवास पर इंदिरा गांधी की हत्या कर दी थी। जब बेअंत सिंह को सुरक्षा गार्डों ने मौके पर ही मार डाला था, जबकि सतवंत सिंह को बाद में मौत की सजा सुनाई गई और बाद में फांसी दे दी गई थी। 1989 के लोकसभा चुनाव में सरबजीत की मां बिमल कौर रोपड़ सीट से सांसद चुनी गई थीं। उनके दादा उसी वर्ष बठिंडा से सांसद चुने गए थे।

यह भी पढ़ें- Lok Sabha elections: बिहार में नीतीश का जलवा बरकरार, विरोधियों को लगा ऐसा झटका

अब्दुल रशीद शेख उर्फ ​​इंजीनियर रशीद
इंजीनियर रशीद के नाम से मशहूर स्वतंत्र उम्मीदवार शेख अब्दुल रशीद जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला पर शानदार जीत की ओर बढ़ रहे हैं। वे उन छह स्वतंत्र उम्मीदवारों में शामिल हैं जो इस बार लोकसभा चुनाव में जीत हासिल करने की ओर अग्रसर हैं, जबकि 8,000 से ज़्यादा उम्मीदवारों में से लगभग आधे उम्मीदवार बिना किसी पार्टी से जुड़े चुनाव लड़ रहे हैं।

यह भी पढ़ें- Lok Sabha Election Results 2024: अनुराग ठाकुर सहित भाजपा के ये युवा नेता विजयी, जानिये कौन कितने मतों से हासिल की जीत

अब्दुल रशीद शेख उर्फ ​​इंजीनियर रशीद
अब्दुल रशीद उर्फ ​​इंजीनियर रशीद वर्तमान में आतंकी फंडिंग मामले में दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद है। दो बार विधायक रह चुके और आवामी इत्तेहाद पार्टी के प्रमुख, बारामुल्ला से चुनाव लड़ रहे 22 उम्मीदवारों में से एक थे। इंजीनियर रशीद को 2019 में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने आतंकी फंडिंग गतिविधियों के आरोप में गिरफ्तार किया था, जो गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम के तहत हिरासत में लिए जाने वाले पहले मुख्यधारा के नेता बन गए।

यह वीडियो भी देखें-

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.