Lok Sabha Election 2024: विजय वडेट्टीवार के बयान पर उज्जवल निकम का पलटवार, बोले- ’26/11 हमले में मारे गए लोगों का…’

आईपीएस अधिकारी हेमंत करकरे को जो गोली लगी, वह किसी आतंकवादी ने नहीं, बल्कि गिरोह का समर्थन करने वाले एक पुलिस अधिकारी ने चलाई थी।

395

Lok Sabha Election 2024: ‘मुझे दुख है कि विजय वडेट्टीवार ने बेबुनियाद आरोप लगाए हैं। इससे पाकिस्तान सरकार को फायदा हो सकता है। मुझे नहीं पता कि वे किस आधार पर ऐसे दावे कर रहे हैं। मुझे आश्चर्य है कि आप राजनीति में शामिल होकर हमारे देश की छवि खराब कर रहे हैं।’ भाजपा के उत्तर मध्य मुंबई लोकसभा क्षेत्र के उम्मीदवार उज्जल निकम (Ujjal Nikam) ने प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि विपक्ष के नेता विजय वडेट्टीवार (Vijay Wadettiwar) 26/11 के हमलों में अपनी जान गंवाने वाले लोगों का अपमान कर रहे हैं।

आईपीएस अधिकारी हेमंत करकरे (Hemant Karkare) को जो गोली लगी, वह किसी आतंकवादी ने नहीं, बल्कि गिरोह का समर्थन करने वाले एक पुलिस अधिकारी ने चलाई थी। राज्य विधानसभा में विपक्ष के नेता विजय वडेट्टीवार ने कहा, वकील उज्ज्वल निकम ने अदालत से यह सच्चाई छिपाई है। उनके इस बयान के बाद राजनीतिक गलियारों से प्रतिक्रियाएं आनी शुरू हो गई हैं। उज्जवल निकम को बीजेपी ने उत्तर मध्य मुंबई लोकसभा क्षेत्र से उम्मीदवार बनाया है।

यह भी पढ़ें-  Lok Sabha Election 2024: सपा-बसपा के लोग अपने बच्चों के भविष्य के लिए लड़ रहे चुनाव- नरेन्द्र मोदी

उज्जवल निकम ने प्रतिक्रिया
इस पृष्ठभूमि में विजय वडेट्टीवार का बयान अहम माना जा रहा है। इस बीच विजय वडेट्टीवार के बयान के बाद उज्जवल निकम ने प्रतिक्रिया दी है। जो लोग मेरी उम्मीदवारी से डरते हैं वे ऐसी फर्जी खबरें फैला रहे हैं।’ वकील उज्ज्वल निकम ने कहा कि फांसी से पहले कसाब ने मजिस्ट्रेट के सामने कबूल किया था कि उसने और लश्कर-ए-तैयबा के सदस्य इस्माइल खान ने मुंबई हमलों के दौरान पुलिस जीप पर गोलीबारी की थी, जिसमें करकरे और पुलिस टीम के दो अन्य सदस्य मारे गए थे।

यह भी पढ़ें- Al Jazeera Ban: जानें इज़राइल ने क्यों बैन किया अल जज़ीरा समाचार नेटवर्क?

विजय वडेट्टीवार ने क्या कहा?
आईपीएस अधिकारी हेमंत करकरे को जो गोली लगी, वह किसी आतंकवादी ने नहीं, बल्कि गिरोह का समर्थन करने वाले एक पुलिस अधिकारी ने चलाई थी। वडेट्टीवार ने कहा कि वकील उज्ज्वल निकम ने अदालत से यह सच्चाई छिपाई है। इसके बाद वडेट्टीवार ने इस बयान को फिर से समझाते हुए कहा, ”हम एस.एम. हैं। मैंने मुशरिफ की किताब का हवाला देकर बात की है. इसमें मैंने कुछ नहीं कहा लेकिन विलासराव देशमुख ने उस वक्त कहा था कि कसाब को फांसी हो गई इसलिए श्रेय लेने की जरूरत नहीं है। चूँकि कसाब एक आतंकवादी था इसलिए उसे फाँसी दी जानी थी। इसलिए अहंकार दिखाने की कोई जरूरत नहीं है.’ मैं एसएम हूं। विजय वडेट्टीवार ने कहा कि मुश्रीफ की किताब का सबूत दिया गया है और अगर वह (उज्वल निकम) कुछ खुलासा करना चाहते हैं, तो उन्हें ऐसा करना चाहिए।

यह वीडियो भी देखें-

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.