कौन हैं वर्षा राऊत और कैसे जुड़ा पत्राचाल मनी लॉंडरिंग से संबंध?

प्रवर्तन निदेशालय पत्राचाल के प्रकरण में हुई आर्थिक अनियमतिताओं की जांच कर रहा है। इसमें राऊत परिवार पर शिकंजा कसा गया है।

वर्षा राऊत शिवसेना के वरिष्ठ नेता संजय राऊत की पत्नी हैं। उनका नाम पंजाब महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक (पीएमसी) घोटाले की जांच के समय एजेंसियों के सामने आया था। पीएमसी बैंक घोटाले में आरोप झेल रहे हैं प्रवीण राऊत, जिनकी पत्नी माधुरी राऊत और वर्षा राऊत के बीच लेनदेन का व्यवहार पाया गया था। पता चला है कि, यह लेनदेन गोरेगांव के पत्राचाल से संबंधित है। यह प्रकरण तब अधिक स्पष्ट हुआ जब प्रवर्तन निदेशालय ने इसकी जांच शुरू की।

वर्षा राऊत पेशे से शिक्षिका हैं। वे भांडुप के स्कूल से संलग्न हैं। एक प्रतिष्ठित समाचार चैनल की रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2020 के कॉर्पोरेट मंत्रालय के रिकॉर्ड में वर्षा राऊत तीन कंपनियों में भागीदार थीं। जिसमें रायटर एंटरटेनमेंट एलएलपी, सनातन मोटर्स प्राइवेट लिमिटेड और सिद्धांत सिस्कोन प्राइवेट लिमिटेड।

रायटर्स एंटरटेनमेंट एलएलपी – इस कंपनी में संजय राऊत, वर्षा राऊत, पुत्री पूर्वांशी व विदिता भागीदार हैं। इसी कंपनी ने वर्ष 2019 में शिवसेनाप्रमुख बालासाहेब ठाकरे के नाम से ठाकरे फिल्म का निर्माण किया था।

सनातन मोटर्स – इस कंपनी में वर्षा राउत के अलावा अरुण बंसल, विमला कुमार और विजय कुमार हिस्सेदार हैं।

सिद्धांत सिस्कोन प्राइवेट लिमिटेड – इस कंपनी में वर्षा राउत के साथ माधुरी प्रवीण राउत, सुप्रिया राजू परुलेकर हिस्सेदार हैं।

ये भी पढ़ें – अभी ईडी की हिरासत में ही रहेंगे राउत, न्यायालय ने सुनाया ये फैसला

मैत्री और मुसीबत
प्राप्त जानकारी के अनुसार, मधुरी प्रवीण राउत और वर्षा राउत अच्छी मित्र हैं। माधुरी के पति प्रवीण राउत की ही गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन ने पत्राचाल के पुनर्विकास का कार्य म्हाडा से प्राप्त किया था। उनकी कंपनी गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन हाउसिंग डेवलपमेन्ट इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (एचडीआईएल) की सहयोगी कंपनी है। जिसमें सारंग और राकेश वाधवान प्रमोटर रहे हैं। इन लोगों पर पीएमसी बैंक से 6,500 करोड़ रुपए का घपला करने का आरोप है। जब पीएमसी बैंक घोटाले की जांच का प्रकरण खुला तो उसी में माधुरी राउत और वर्षा संजय राउत के बीच लेनदेन का खुलासा हुआ।

प्रवीण राउत गिरफ्तार
गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन के निदेशक प्रवीण राउत को मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने गोरेगांव स्थिति पत्राचाल के पुनर्विकास में 1030 करोड़ रुपए का घपला करने के आरोप में गिरफ्तार किया है। इसी प्रकरण मे संजय राउत पर गंभीर आरोप लगे हैं। जिसमें प्रवर्तन निदेशालय ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोप है कि गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन के माध्यम से ही संजय राऊत ने लेनदेन किया, जिससे अलीबाग में भूखंड और बंगला खरीदा व दादर में फ्लैट खरीदा है। दादर के फ्लैट की खरीद में ही 55 लाख रुपए का ब्याज रहित ऋण माधुरी राऊत ने वर्षा राऊत को दिया था, जिसे जांच एजेंसियों के निशाने पर आने के बाद वापस भी किया जा चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here