Haryana: केजरीवाल कोबरा और देशद्रोही? राजकुमार गौतम ने दिल्ली के सीएम पर लगाए कई गंभीर आरोप

नारनौंद के विधायक रामकुमार गौतम ने आरोप लगाया कि केजरीवाल ने अपने साथी रहे नवीन जय हिंद की बीवी स्वाति मालीवाल को छीन लिया और अब अपने पीए विभव कुमार से उसे पिटवा दिया।

419

Haryana के नारनौंद के विधायक रामकुमार गौतम ने कहा कि केजरीवाल कोबरा सांप से भी खतरनाक है। उसका जिसने भी साथ दिया, उसी को केजरीवाल ने धोखा दिया है। वह देश के लिए खतरा है। ऐसे आदमी की पार्टी के उम्मीदवार को कभी भूलकर भी वोट मत देना। उसने राज्यसभा में सुशील गुप्ता जैसे लोगों को भेजा, जिनके उसकी पार्टी से कभी कोई लेना-देना भी नहीं रहा। वे 15 मई को यहां पत्रकार वार्ता में बोल रहे थे।

केजरीवाल ने पर धोखा देने का आरोप
दुष्यंत चौटाला के बारे में पूछे गए प्रश्न पर उन्होंने बस इतना कहा कि आप वह बात क्यों पूछते हैं, जो बताने के काबिल नहीं है। गौतम बोले कि वे आज सिर्फ केजरीवाल के बारे में बात करने के लिए आए हैं। उन्होंने कहा कि केजरीवाल ने नवीन जय हिंद, छोटेपुर और अन्ना हजारे को धोखा दिया। उसने प्रशांत भूषण और यादव को भी इस लायक नहीं समझा कि उन्हें राज्यसभा में भेज देता। उसका जो साथ देता है। वह उसे खत्म कर देता है। उसने कांग्रेस को उजाड़ दिया। कांग्रेस का गुजरात गोवा में बहुत नुकसान किया। केजरीवाल ने सीएए और एनआरसी का विरोध किया।

नवीन जय हिंद की पत्नी को छीनने का आरोप
केजरीवाल ने अपने साथी रहे नवीन जय हिंद की बीवी स्वाति मालीवाल को छीन लिया और अब अपने पीए विभव कुमार से उसे पिटवा दिया। खालिस्तानी आतंकी गुरपतवंत सिंह पन्नू ने दावा किया है कि दिल्ली बम धमाके के आरोपी देविन्दर पाल सिंह भुल्लर की रिहाई के एवज में उन्होंने केजरीवाल को 134 करोड रुपए दिए। रामकुमार गोतम ने कहा कि गद्दार को वोट मत देना चाहे किसी को भी वोट दे देना। इस मौके पर एडवोकेट दिनेश पाठक, बार एसोसिएशन के पूर्व प्रधान सुभाष चुघ, नफे सिंह बेरवाल मौजूद रहे।

Lok Sabha Elections: उत्तर प्रदेश में में कांग्रेस को कितनी सीटें मिलेंगी? सीएम योगी ने किया यह दावा

सियासी तीर छोड़ने में माहिर हैं दादा गौतम
नारनौंद विधानसभा क्षेत्र से विधायक रामकुमार गौतम की पुरानी पृष्ठभूमि भाजपा की रही है और वह एक बार भाजपा से विधायक भी रह चुके हैं। पिछली बार वह कांग्रेस के टिकट के दावेदार थे, लेकिन बदले राजनीतिक परिदृश्य के चलते मजबूरी में गौतम को जजपा में जाना पड़ा। जजपा प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ा और वह विधायक बने। खास बात ये है कि भाजपा जजपा के गठबंधन के बाद वरिष्ठ नेता होने के बावजूद गौतम को मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया गया।

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.