भारत पर बड़बोली पड़ी भारी, इस्लामिक सहयोग संगठन को दिखाई उसकी जगह

भारत के असम में बड़ी संख्या में बांग्लादेशी और म्यांमार के घुसपैठियों ने सरकारी जमीनों पर कब्जा कर रखा है। इसके विरुद्ध कार्रवाई को लेकर अब देश के खिलाफ दुष्प्रचार किया जा रहा है।

असम में घुसपैठियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा रही है। इसके अंतर्गत सैकड़ो एकड़ भूमि पर कब्जा जमाए बैठे घुसपैठियों को सरकार ने कार्रवाई करके हटा दिया है। इस कार्रवाई का दर्द इस्लामिक सहयोग संगठन के देशों को हो गया है। जिस पर भारत ने कड़ी आलोचना करते हुए चेताया है कि समूह को देश के आंतरिक मामलों पर टिप्पणी करने का कोई अधिकार नहीं है।

असम के दरांग जिले में लगभग 4,500 बीघा भूमि पर कब्जा करने वाले लगभग 800 परिवारों को राज्य सरकार के “अवैध अतिक्रमण” के खिलाफ अभियान के तहत बेदखल कर दिया गया था। अभियान के दौरान दो नागरिकों की मौत हो गई और कई पुलिसकर्मी घायल हो गए।

ये भी पढ़ें – अफगानिस्तान: अब शिया नहीं सुरक्षित… वो नमाज पढ़ रहे थे आईएस ने मार डाला

विदेश विभाग ने ओआईसी को जगह दिखाई
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा कि भारत ऐसे सभी अनुचित बयानों” को खारिज करता है और उम्मीद करता है कि भविष्य में ऐसा कोई संदर्भ नहीं दिया जाएगा। भारत अत्यंत खेद के साथ नोट करता है कि इस्लामिक सहयोग संगठन (ओआईसी) ने भारतीय राज्य असम में दुर्भाग्यपूर्ण घटना पर तथ्यात्मक रूप से गलत और भ्रामक बयान जारी करके भारत के आंतरिक मामलों पर एक बार फिर टिप्पणी करना चुना। भारतीय अधिकारियों ने इस संबंध में उचित कानूनी कार्रवाई की है। यह दोहराया जाता है कि भारत के आंतरिक मामलों से संबंधित मामलों में ओआईसी का कोई अधिकार नहीं है और उसे अपने मंच को निहित स्वार्थों से प्रभावित नहीं होने देना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here