Israel-Hamas war: इजराइली सेना के अनुरोध पर गूगल ने बंद की ये सर्विस, जानें क्या था खतरा

इजराइली बलों ने दक्षिणी गाजा में हवाई हमले किए, जिसमें कम से कम 28 फलस्तीनियों की मौत हो गई।

1311

Israel-Hamas war: इजराइल-हमास के बीच जारी युद्ध के बीच गूगल (Google) ने इजराइली सेना के अनुरोध पर लाइव ट्रैफिक फीचर (Live Traffic feature) को बंद कर दिया है जिसके कारण लोगों को गूगल नेविगेशन ऐप (navigation app) को यूज करने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा। गूगल ने इजराइल में लाइव ट्रैफिक कंडिशन के फीचर को बंद कर दिया है।

इजराइली सेना की गतिविधियों के ट्रैक की आशंका
इजराइली सैनिकों का कहना है कि गूगल नेविगेशन ऐप्स जैसे गूगल मैप्स के जरिए इजराइली सेना की गतिविधियों और संचालन को ट्रैक किया जा सकता है। युद्धविराम की मांग के बीच गाजा पट्टी पर इजराइल के हमले जारी हैं। इजराइली बलों ने मंगलवार को दक्षिणी गाजा में हवाई हमले किए, जिसमें कम से कम 28 फलस्तीनियों की मौत हो गई। इसके साथ ही उत्तरी गाजा के अंतिम कार्यरत अस्पतालों में से एक पर भी हमला किया। दूसरी ओर, हमास के पक्ष में यमन के ईरान समर्थित हाउती विद्रोहियों ने लाल सागर में हमले जारी रखने का संकल्प लिया है। इससे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर व्यापार पर और असर पड़ने की आशंका है।

इजराइल के राष्ट्रपति इसहाक हर्जोग ने मंगलवार को हमास द्वारा बंधक बनाए गए बंधकों को वापस लाने के लिए युद्धविराम की जरूरत पड़ती है तो हम ऐसा करने के लिए तैयार हैं।

युद्धविराम के लिए चल रही है बातचीत
बता दें कि इजरायल और हमास के बीच युद्धविराम के लिए बातचीत चल रही है।सीआइ के प्रमुख सोमवार को इजरायली और कतर के अधिकारियों के साथ बातचीत के लिए यूरोप पहुंच गए। नए युद्धविराम और गाजा में बंधकों की रिहाई पर एक समझौते की संभावना जताई गई है, क्योंकि अमेरिकी रक्षा मंत्री लायड ने हमास के विरुद्ध प्रमुख युद्ध अभियानों को कम करने के लिए इजराइली सैन्य नेताओं से बातचीत की है।

युद्धविराम के लिए इजराइल पर बढ़ रहा दबाव
इजराइल के कुछ सहयोगियों फ्रांस, ब्रिटेन और जर्मनी ने भी युद्धविराम के लिए दबाव बढ़ा दिया है। जबकि अमेरिका लगातार नागिरकों की मौत पर चिंता जताते हुए इजराइल से सटीक कार्रवाई करने को कह रहा है। वहीं, इजराइली पीएम बेंजामिन नेतन्याहू कह रहे हैं कि जब तक हमास बचे हुए 129 बंधकों को रिहा नहीं कर देता युद्ध बंद नहीं हो सकता।(हि.स.)

यह भी पढ़ें – Indore: अतिक्रमणकारियों के विरुद्ध बड़ी कार्रवाई, जानें कैसे मुक्त हुई 15 करोड़ रुपये से अधिक भूमि

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.