राष्ट्रपति ने किया दरबार हॉल का उद्घाटन! राजवभन को बताया ऐतिहासिक, कही ये बात

राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द ने 11फरवरी को राजभवन में दरबार हॉल का उद्घाटन करते हुए कहा कि मुंबई का राजभवन देश का अनोखा राजभवन बना रहेगा। यह मेरा सौभाग्य है कि इस ऐतिहासिक वास्तु का उद्घाटन करने का अवसर मिला। इस अवसर पर राष्ट्रपति ने महाराष्ट्र के नागरिकों को अपनी शुभकामना दी।

मुंबई स्थित राजभवन में बनाये गए दरबार हॉल का नवीनीकरण के बाद राष्ट्रपति ने इसका उद्घाटन किया। इस अवसर पर सूबे के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी, मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, उपमुख्यमंत्री अजीत पवार, लोक निर्माण मंत्री अशोक चव्हाण, पर्यावरण मंत्री आदित्य ठाकरे सहित तमाम गणमान्य लोग उपस्थित थे। यह भवन सन् 1911 में बना था।


इस अवसर पर राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने कहा कि पिछले ढाई साल से वे इस राजभवन में हैं। यह राजभवन तीन तरफ समुद्र से घिरा है और एक तरफ वाणगंगा है। यहां आने के बाद इसे राजभवन की बजाय लोकभवन बनाने का हमने प्रयास किया। कोरोना काल के दौरान यहां तकरीबन 10 हजार से अधिक कोरोना योद्धाओं को सम्मानित किया गया है।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि मुंबई में तीन तरफ से घिरा यह राजभवन अपने आप में ऐतिहासिक होने के साथ अनोखा भी है। इस राजभवन में पहली बार अपने पिता स्वर्गीय बालासाहेब ठाकरे के साथ आया था, जब ज्ञानी जैल सिंह राष्ट्रपति थे। मुख्यमंत्री ने कहा कि सन् 1911 में बने इस राजभवन के दरबार हॉल की वास्तु पुरातन है। उसे यथावत रखते हुए भवन के नवीनीकरण का काम पूरा करना बहुत ही कठिन था। आगे मुख्यमंत्री ने कहा कि इस वास्तु का उपयोग जनहित में हो, यहीं कामना है।

राजभवन में बने दरबार हॉल का उद्घाटन राष्ट्रपति के हाथों दिसंबर महीने में ही तय किया गया था। लेकिन चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ बिपिन रावत की हेलीकॉफ्टर दुर्घटना में मृत्यु के बाद कार्यक्रम स्थगित कर दिया गया था। दरबार हॉल की आसन क्षमता पहले 225 लोगों की थी, जिसे बढ़ाकर 750 कर दिया गया है। यह हॉल तथा राजभवन अंग्रेजों के समय से अब तक कई ऐतिहासिक निर्णयों का गवाह रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here