महाराष्ट्रः मौसम का आनंद लेने लोनावला-खंडाला पहुंचे हजारों पर्यटकों को पुलिस ने इसलिए वापस भेजा!

लोनावला में मौसम का लुत्फ उठाने के लिए पर्यटकों की संख्या बढ़ रही है। कोरोना महामारी के कारण सरकारी पाबंदियों के बावजूद यहां बड़ी संख्या में पर्यटकों का आना चिंता की बात है।

महाराष्ट्र के मशहूर पिकनिक स्पॉट लोनावला-खंडाला में पिछले कुछ दिनों से भारी बारिश हो रही है। मौसम का लुत्फ उठाने के लिए यहां पर्यटकों की संख्या बढ़ रही है। कोरोना महामारी के कारण सरकारी पाबंदियों के बावजूद यहां बड़ी संख्या में पर्यटकों का आना चिंता की बात है। यही कारण है कि 14 जून को सरकारी नियमों और पर्यटन प्रतिबंध आदेश का उल्लंघन कर लोनावला आए पर्यटकों को पुलिस प्रशासन ने वापस भेज दिया।

मॉनसून की शुरुआत के साथ ही विकेंड में यानी शनिवार और रविवार को हजारों की संख्या में सैलानी लोनावला पहुंचे। इस कारण लोनावला-खंडाला के सभी पर्यटन स्थल हाउसफुल रहे। हालांकि इसकी जानकारी मिलने के बाद लोनावला शहर की पुलिस ने भूशी डैम के पास नौसेना बाग में एक चेक पोस्ट बना दिया और कोरोना नियमों का उल्लंघन करने वाले पर्यटकों को वापस भेज दिया।

ये भी पढ़ेंः राम मंदिर फंड घोटाला? शिवसेना सांसद संजय राउत ने की ये मांग

हजारों की संख्या में उमड़े सैलानी 
लोनावाला में बड़ी संख्या में पर्यटकों के आने से मुंबई-पुणे राष्ट्रीय राजमार्ग पर करीब चार से पांच किलोमीटर तक वाहनों की कतार लग गई, हालांकि राज्य में कोरोना के मरीजों में कमी आ रही है, लेकिन सरकारी पाबंदियां अभी भी लागू हैं। इस बीच, लोनावाला और खंडाला में प्रतिबंध के बावजूद बारिश के मौसम का आनंद लेने के लिए हजारों पर्यटकों के पहुंचने पर स्थानीय लोगों ने नाराजगी व्यक्त की। लोनावला को कोरोना मुक्त बनाने के लिए जहां स्थानीय लोग अभी भी नियमों का पालन कर रहे हैं, वहीं शहर में पर्यटकों की भीड़ उमड़ने से नियमों की धज्जियां उड़ रही हैं।

ये भी पढ़ेंः महाराष्ट्रः मराठा आरक्षण पर छत्रपति शाहू महाराज ने दिया ये सुझाव

अतिरिक्त स्टाफ की मांग
लोनावला शहर पुलिस स्टेशन में पुलिसकर्मियों की कमी है और पर्यटकों की संख्या बढ़ रही है। इस स्थिति में सुरक्षा की योजना बनाना मुश्किल हो रहा है। हालांकि पिछले कुछ वर्षों से लोनावला शहर और ग्रामीण पुलिस थानों में अधिक स्टाफ की मांग की जा रही है, लेकिन वरिष्ठों ने इस पर ध्यान नहीं दिया है। लोनावला नगर पालिका और शहर के सामाजिक संगठनों ने मांग की है कि जिला पुलिस अधीक्षक को मॉनसून के दौरान पर्यटकों के कारण होने वाली भीड़ को नियंत्रित करने के लिए यहां अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान करनी चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here