Sandeshkhali Violence: पश्चिम बंगाल में लगाया जाए राष्ट्रपति शासन, राष्ट्रीय महिला आयोग ने की प्रेसिडेंट मुर्मू से मांग

राष्ट्रीय महिला आयोग ने अपनी फैक्ट फाइंडिंग रिपोर्ट में दावा किया था कि पश्चिम बंगाल के संदेशखाली में डर का माहौल है।

91

पश्चिम बंगाल (West Bengal) में तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) नेता शाहजहां शेख (Shahjahan Sheikh) ने एक ऐसी हरकत की है जिससे पूरे देश का सिर शर्म से झुक गया। उसने संदेशखाली (Sandeshkhali) में वर्षों तक युवा विवाहित महिलाओं (Married Women) का यौन उत्पीड़न (Sexual Harassment) किया है। इस बीच ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) सरकार शाहजहां शेख को बचाने की पूरी कोशिश कर रही है। ऐसे में राष्ट्रीय महिला आयोग (National Commission for Women) की अध्यक्ष रेखा शर्मा (Rekha Sharma) ने संदेश के तहत हिंसा को लेकर राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू (President Draupadi Murmu) से मुलाकात की। इस दौरान उन्होंने राष्ट्रपति मुर्मू से संदेश के तहत पश्चिम बंगाल में हुई हिंसा के मद्देनजर राष्ट्रपति शासन (President’s Rule) लगाने की सिफारिश की। (Sandeshkhali Violence)

इससे पहले राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग ने भी ममता बनर्जी शासित राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश की थी। राष्ट्रपति से मुलाकात के बाद महिला आयोग की अध्यक्ष रेखा शर्मा ने कहा कि संदेशखाली हिंसा मामले के मुख्य आरोपी शाहजहां शेख को गिरफ्तार तो कर लिया गया है, लेकिन वहां की स्थिति अब भी गंभीर है। उन्होंने कहा कि यह पहली घटना नहीं है, टीएमसी शासित राज्य में पहले भी ऐसी घटनाएं हो चुकी हैं। लेकिन राज्य सरकार ने कोई कार्रवाई नहीं की। ऐसे में एनसीडब्ल्यू ने राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू से राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की सिफारिश की है।

यह भी पढ़ें- Bengaluru: रामेश्वरम कैफे ब्लास्ट के आरोपी की तस्वीर जारी, एनआईए ने तेज की जांच

तृणमूल नेताओं के साथ पुलिस अधिकारी भी मिले
रेखा शर्मा ने कहा कि एनसीडब्ल्यू लगातार राज्य की स्थिति पर नजर रखे हुए है। इससे पहले राष्ट्रीय महिला आयोग ने अपनी फैक्ट फाइंडिंग रिपोर्ट में दावा किया था कि पश्चिम बंगाल के संदेशखाली में डर का माहौल है। वहां महिलाओं को तृणमूल नेताओं के साथ-साथ पुलिस अधिकारियों द्वारा भी प्रताड़ित किया गया। उनके पास कई महिलाओं की शिकायतें पहुंची हैं।

झूठे आरोपों में गिरफ्तार
महिला आयोग ने कहा, संदेशखाली हिंसा में जब महिलाएं दुर्व्यवहार की शिकायत करती हैं, तो तृणमूल नेता या पुलिस उनके खिलाफ कार्रवाई करते है। वे या तो महिलाओं से उनकी संपत्ति जब्त करना शुरू कर देते हैं या उनके परिवार के पुरुष सदस्यों को परेशान करना शुरू कर देते हैं और उन्हें झूठे आरोपों में गिरफ्तार कर लेते हैं। एनसीडब्ल्यू ने कहा कि टीम के निष्कर्षों से बंगाल सरकार और कानून प्रवर्तन अधिकारियों की ओर से लापरवाही और मिलीभगत का एक खतरनाक पैटर्न सामने आया है। एनसीडब्ल्यू सदस्य डेलिना खोंगडुप ने संदेशकली की यात्रा के दौरान स्थानीय पुलिस अधिकारियों के रवैये पर गहरी निराशा व्यक्त की। एनसीडब्ल्यू ने दावा किया कि पुलिस महानिदेशक ने संघ के साथ सहयोग करने से इनकार कर दिया।

देखें यह वीडियो- 

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.