Pooja Khedkar: चर्चा में आईं ट्रेनी आईएएस अधिकारी पूजा खेडकर ने संभाला वाशिम में कार्यभार, विवादों पर मौन

2023 बैच की आईएएस अधिकारी पूजा खेडकर पुणे में अतिरिक्त कलेक्टर के रूप में तैनात थीं। संदिग्ध कारणों से वे खबरों में आ हैं।

96

Pooja Khedkar: विवादास्पद प्रशिक्षु भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) अधिकारी पूजा खेडकर, जो विशेषाधिकार प्राप्त करने और फर्जी प्रमाण पत्र बनाने के लिए विवादों में हैं, 11 जुलाई को वाशिम जिला प्रशासन में शामिल हो गईं, ताकि वे अपने प्रशिक्षण के शेष भाग को पूरा कर सकें। हालांकि आरटीआई कार्यकर्ता उनकी भर्ती की संदिग्ध परिस्थितियों की गहन जांच की मांग कर रहे हैं।

2023 बैच की आईएएस अधिकारी पूजा खेडकर पुणे में अतिरिक्त कलेक्टर के रूप में तैनात थीं। संदिग्ध कारणों से वे खबरों में आ गईं, जब यह पता चला कि उन्होंने सहायक कलेक्टर के रूप में कार्यभार संभालने से पहले एक अलग कार्यालय, घर, कार और स्टाफ (एक कांस्टेबल सहित) के साथ ही प्रशिक्षु अधिकारियों को नहीं दिए जाने वाले भत्ते आदि  मांगे थे। आरोपों के बीच पता चला है कि उनके पिता जो एक सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी हैं, ने अपनी बेटी की मांगों को पूरा करने के लिए अपने प्रभाव का इस्तेमाल किया था।

गाड़ी पर लाल बत्ती
यहां तक ​​कि उन्होंने पुणे में प्रोबेशन के दौरान अपनी निजी लग्जरी सेडान ऑडी पर ‘महाराष्ट्र सरकार’ का स्टिकर और लाल-नीली बत्ती भी लगाई थी। नौकरशाहों के परिवार से ताल्लुक रखने वाली पूजा खेडकर के बारे में और भी कई खुलासे हुए हैं। पता चला है कि उन्होंने विकलांगता प्रमाण पत्र हासिल करने के लिए कथित तौर पर मानसिक बीमारी का नाटक किया और दृष्टिबाधित श्रेणी के तहत यूपीएससी परीक्षा में शामिल हुईं। विवाद पर खेडकर चुप  हैं।

जांच में खुलासा
विवादों की लंबी फेहरिस्त के बाद जांच की गई और पुणे के जिला कलेक्टर सुहास दिवासे ने सामान्य प्रशासन विभाग (जीएडी) को एक रिपोर्ट सौंपी, जिसके बाद खेडकर को 30 जुलाई, 2025 तक “सुपरन्यूमेरी असिस्टेंट कलेक्टर” के रूप में अपने प्रशिक्षण की शेष अवधि पूरी करने के लिए वाशिम जिले में स्थानांतरित कर दिया गया।

विवादों पर मौन
प्रशासन में शामिल होने से पहले वाशिम में पत्रकारों से बात करते हुए खेडकर ने अपने विवादों पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया, केवल इतना कहा: “मैं वाशिम जिले [प्रशासन] में शामिल होकर बहुत खुश हूं। मैं यहां काम करने के लिए उत्सुक हूं… मैं इस मुद्दे पर टिप्पणी करने के लिए अधिकृत नहीं हूं क्योंकि सरकारी नियमों के अनुसार इस मामले पर कुछ भी बोलना मना है।”

जिला कलेक्टर ने कही यह बात
वाशिम जिला कलेक्टर बुवेनेश्वरी एस ने कहा कि खेडकर को प्रोबेशनरी अधिकारी के रूप में पुणे जिला भेजा गया था।  बुवेनेश्वरी ने कहा, “उन्होंने आज से काम शुरू कर दिया है। जीएडी के पास प्रोबेशनरी आईएएस अधिकारियों के लिए एक शेड्यूल है। हम उन्हें उस शेड्यूल के तहत प्रशिक्षण देने के लिए तैयार हैं।”

दिवासे की रिपोर्ट में क्या हैः
दिवासे की रिपोर्ट के अनुसार, 3 जून को ड्यूटी पर आने से पहले भी खेडकर ने बार-बार मांग की थी कि उन्हें एक अलग केबिन, कार, आवासीय क्वार्टर और एक चपरासी प्रदान किया जाए। रिपोर्ट में कहा गया है कि वह पुणे के अतिरिक्त कलेक्टर अजय मोरे के कार्यालय का भी उपयोग कर रही थीं, जब वे बाहर थे और उन्होंने उनकी नेमप्लेट और फर्नीचर हटा दिया था। इसके बाद उन पर सिविल सेवा परीक्षा पास करने के लिए फर्जी विकलांगता और फर्जी अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने के आरोप लगे हैं। खेडकर ने अपने विकलांगता प्रमाण पत्र के सत्यापन के लिए दिल्ली में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में रिपोर्ट करने के लिए कहे जाने के बावजूद विभिन्न बहाने बनाकर कम से कम छह बार अपनी मेडिकल परीक्षण छोड़ दी है।

Pooja Khedkar: विवादों में आई आइएएस पूजा खेडकर पहली बार आई मीडिया के सामने; जानिये क्या कहा

आरटीआई कार्यकर्ता ने जांच की मांग 
इस बीच, शहर के आरटीआई कार्यकर्ता विजय कुंभार ने सेवा में खेडकर की भर्ती की परिस्थितियों की गहन जांच की मांग की है।

उन्होंने आरोप लगाया कि वह ओबीसी श्रेणी से आईएएस अधिकारी बनीं, जहां क्रीमी लेयर प्रमाण पत्र की सीमा ₹8 लाख की वार्षिक पैतृक आय है, जबकि उनके पिता के हलफनामे में उनकी संपत्ति लगभग ₹40 करोड़ बताई गई है।

 खेडकर के पिता, दिलीप खेडकर ने प्रकाश अंबेडकर के नेतृत्व वाली वंचित बहुजन अघाड़ी (वीबीए) के उम्मीदवार के रूप में अहमदनगर निर्वाचन क्षेत्र से लोकसभा चुनाव लड़ा था, लेकिन उन्हें हार का सामना करना पड़ा था।

 कुंभार ने दावा किया कि खेडकर के माता-पिता के पास गैर-क्रीमी लेयर प्रमाणपत्र होने के बावजूद, 110 एकड़ कृषि भूमि, कम से कम सात फ्लैट, 900 ग्राम सोना, ₹17 लाख की सोने की घड़ी और 4 कारें शामिल हैं। कुंभार ने आगे आरोप लगाया कि खेडकर के पास खुद ₹17 करोड़ की संपत्ति है।

सवाल यह उठता है कि इस हालत में वह गैर-क्रीमी लेयर श्रेणी में कैसे आ सकती है? इसके अलावा, उन्होंने मानसिक रूप से बीमार होने और कई विकलांगों से पीड़ित होने की बात स्वीकार की है। अगर कोई मानसिक रूप से बीमार है, तो उसे उच्च पद कैसे दिया जा सकता है। वह कम से कम छह बार मेडिकल के लिए उपस्थित नहीं हुई है। इन अनियमितताओं के लिए जीएडी को जवाब देना होगा।”

Pooja Khedkar: विवादों में आई आइएएस पूजा खेडकर पहली बार आई मीडिया के सामने; जानिये क्या कहा

कुंभार का आरोप
कुंभार ने आगे कहा कि कोई भी प्रशिक्षु आईएएस अधिकारी अपने गृह नगर में पोस्टिंग हासिल करने में कामयाब नहीं हुआ। पूजा खेडकर को उनकी शुरुआती पोस्टिंग भंडारा जिले में दिए जाने के बावजूद, बाद में उन्हें पुणे दिया गया। उन्हो यह नियुक्ति आईएएस जैसी प्रतिष्ठित सेवा पर एक धब्बा है। मैं प्रधानमंत्री कार्यालय और मुख्यमंत्री कार्यालय को पत्र लिखने जा रहा हू।”

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.