26 नवंबर को 75वीं वर्षगांठ मनाएगा दुनिया का सबसे बड़ा वर्दीधारी युवा संगठन, देशभक्ति की थीम पर दी प्रस्तुति

एनसीसी आज एक असाधारण मंजिल पर पहुंच गई है। इन 75 वर्षों में, यह प्रतिष्ठित संगठन अपने लोकाचार पर दृढ़ रहा और युवाओं के बीच एकता और अनुशासन का प्रतीक बनकर उभरा’’।

585

दुनिया का सबसे बड़ा वर्दीधारी युवा संगठन, राष्ट्रीय कैडेट कोर (NCC) 26 नवंबर, 2023 को अपनी 75वीं वर्षगांठ (75th anniversary) मनाएगा, जो अनुशासन, नेतृत्व और अटूट देशभक्ति जैसे मूल सिद्धांतों के साथ युवाओं को प्रशिक्षित करने में एक महत्वपूर्ण अध्याय के प्रतीक को दर्शा रहा है। इस महत्वपूर्ण मील के पत्थर के स्‍मरणोत्‍सव के अवसर पर, रक्षा सचिव गिरिधर अरमाने ने 25 नवंबर, 2023 को राष्ट्रीय युद्ध स्मारक (National War Memorial), नई दिल्ली में पूरे एनसीसी समुदाय की ओर से शहीद नायकों को पुष्पांजलि अर्पित की और उन्‍हें श्रद्धांजलि दी।

अनुशासन का प्रतीक बनकर उभरा
राष्ट्र निर्माण में एनसीसी के उल्लेखनीय योगदान पर प्रकाश डालते हुए रक्षा सचिव गिरिधर अरमाने ने कहा, “एनसीसी आज एक असाधारण मंजिल पर पहुंच गई है। इन 75 वर्षों में, यह प्रतिष्ठित संगठन अपने लोकाचार पर दृढ़ रहा और युवाओं के बीच एकता और अनुशासन का प्रतीक बनकर उभरा’’। उन्होंने एनसीसी समुदाय को उनकी असीम उपलब्धियों के लिए शुभकामनाएँ दी और उन्हें उनके भविष्य के प्रयासों में पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया।

गर्ल्स कैडेट्स बैंड ने देशभक्ति की थीम पर दी प्रस्तुति
इस आयोजन के एक महत्‍वपूर्ण हिस्‍से के रूप में, कमला नेहरू कॉलेज, नई दिल्ली के एनसीसी विंग की 26 प्रतिभाशाली लड़कियों के बैंड ने देशभक्ति की थीम पर प्रस्तुति दी, जिससे इस औपचारिक समारोह में जीवंतता और देशभक्ति का जुडा़व हुआ।

लाखों एनसीसी कैडेटों के चरित्र को दी दिशा
पिछले सात दशकों में एनसीसी को राष्ट्र निर्माण में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका पर अति गर्व है। इसने लाखों एनसीसी कैडेटों के चरित्र को दिशा देने, कर्तव्य की भावना पैदा करने और हमारे देश के भविष्य के लिए नेतृत्‍व को तैयार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इस अवसर के निर्माण के रूप में, एनसीसी कैडेटों ने दो सप्ताह तक चलने वाले अखिल भारतीय स्वच्छता और जागरूकता अभियान ‘स्वच्छता ही सेवा’ का नेतृत्व किया, जिसमें कचरा मुक्त भारत को बढ़ावा देने के उद्देश्य से विभिन्न प्रभावशाली कार्यक्रम शामिल थे। इसी तरह, 1 अक्टूबर, 2023 को 15 लाख से अधिक कैडेट एक घंटे की ‘श्रमदान’ गतिविधियों में शामिल हुए और इस उद्देश्य में अपना योगदान दिया।

यह भी पढ़ें – India International Fair: महाराष्ट्र के इन स्थानीय उत्पादों की जोरदार मांग

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.