Hathras: हाथरस कांड के बाद पहली बार सामने आया ‘नारायण हरि साकार’, जानें क्या कहा?

हाथरस सत्संग के दौरान मची भगदड़ में 121 लोगों की मौत हो गई थी। बाबा का एक वीडियो सामने आया है, जिसमें बाबा कुछ सेकंड के लिए चुप हो जाते हैं। इसके बाद वह कहते हैं कि भगवान हमें इस दर्द को सहने की शक्ति दे।

121

हाथरस (Hathras) में भगदड़ (Stampede) के बाद सत्संग के मुख्य वक्ता भोले बाबा पहली बार कैमरे के सामने आए हैं। भोले बाबा (Bhole Baba) के नाम से मशहूर सूरजपाल ने एक वीडियो में कहा, “2 जुलाई की घटना के बाद मैं बहुत दुखी हूं। भगवान हमें इस दर्द को सहने की शक्ति दे। मेरा मानना ​​है कि अराजकता फैलाने (Spreading Anarchy) वाले किसी भी व्यक्ति को बख्शा नहीं जाएगा। मैंने अपने वकील एपी सिंह के माध्यम से कट्संग के आयोजकों की समिति के सदस्यों से अनुरोध किया है कि वे शोकाकुल परिवारों के साथ खड़े रहें और जीवन भर उनकी मदद करें।”

इस बीच, 2 जुलाई को हाथरस में सत्संग के दौरान भगदड़ में 121 लोगों की मौत हो गई। मामले में फरार मुख्य आरोपी देव प्रकाश मधुकर (Accused Dev Prakash Madhukar) ने दिल्ली (Delhi) में आत्मसमर्पण कर दिया है। उनका यह वीडियो बयान ऐसे समय में आया है जब अधिकारी हाथरस जिले के फुलराई गांव में उनके सत्संग में हुई घटना की जांच के लिए सूरजपाल ​​नारायण साकर हरि (Narayan Sakar Hari) उर्फ ​​भोले बाबा की तलाश कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें- Keir Starmer: ब्रिटेन में सत्ता परिवर्तन, कीर स्टार्मर बने नए प्रधानमंत्री; ऋषि सुनक ने दिया इस्तीफा

छह लोग गिरफ्तार
भगदड़ मामले के मुख्य आरोपी देव प्रकाश मधुकर को दिल्ली में सरेंडर करने के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस ने हिरासत में ले लिया है, उनके वकील ने शुक्रवार रात को यह दावा किया। गुरुवार तक इस मामले में भोले बाबा के सत्संग की आयोजन समिति की सदस्य दो महिला स्वयंसेवकों समेत छह लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका था। हाथरस के सिकंदराराऊ थाने में मामला दर्ज किया गया है।

सूरजपाल पहली बार मीडिया के सामने आए हैं
दरअसल, हाथरस की घटना के बाद से भोले बाबा लापता थे। इस भयानक हादसे के 4 दिन बाद सूरजपाल पहली बार मीडिया के सामने आए हैं। हालांकि हादसे के करीब 30 घंटे बाद बाबा का लिखित बयान सामने आया। जिसमें उन्होंने मृतकों के प्रति शोक जताया।

एसआईटी ने अब तक 90 लोगों के बयान दर्ज किए
मामले के मुख्य आरोपी देव प्रकाश मधुकर को शुक्रवार देर रात यूपी एसटीएफ ने गिरफ्तार कर लिया। मधुकर पर एक लाख रुपये का इनाम था। हादसे के बाद से मधुकर फरार था। इस बीच, उत्तर प्रदेश सरकार की एसआईटी ने अब तक 90 लोगों के बयान दर्ज किए हैं।

देखें यह वीडियो- 

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.