…और पूछताछ में छूट गए वाझे के पसीने!

17 मार्च की रात एएनआई के अधिकारी वाझे को मुंबई के कई ठिकानों के साथ ही ठाणे स्थित साकेत कांपलेक्स ले गए। इस दौरान एजेंसी को एक संदेहास्पद कार तथा एक शर्ट हाथ लगी है।

महाराष्ट्र पुलिस और राज्य की राजनीति में भूचाल लाने वाले मनसुख हिरेन मौत मामले की जांच एनआईए युद्ध स्तर पर कर रही है। इसी कड़ी में एजेंसी के अधिकारियों ने मामले में गिरफ्तार मुंबई के पूर्व सहायक पुलिस निरीक्षक सचिन वाझे पर और शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। 17 मार्च की रात एजेंसी के अधिकारी वाझे को मुंबई के कई ठिकानों के साथ ही ठाणे स्थित साकेत कांपलेक्स ले गए। इस दौरान एजेंसी को एक संदेहास्पद कार तथा एक शर्ट हाथ लगी है। वाझे के लिए ये चार घंटे काफी तनावपूर्ण थे।

मिली जानकारी के अनुसार एनआईए के अधिकारी 17 मार्च की शाम अचानक वाझे को लेकर ठाणे पहुंचे। इस बारे में वाझे को कुछ जानकारी नहीं थी, कि उन्हें कहां ले जाया जा रहा है। मुंबई स्थित एजेंसी के कार्यालय से निकलने के बाद एजेंसी के अधिकारी उनको ठाणे पहुंचने से पहले बाबुलनाथ मंदिर के पास ले गए। एएनआई के अधिकारी विक्रम लखाटे ने उनको गाड़ी से उतरकर 20 कदम चलने को कहा। इस दरम्यान अधिकारी वाझे के चलने के अंदाज पर बारीकी से नजर रख रहे थे।

साकेत सोसाइटी से कार बरामद
जांच-पड़ताल के दौरान एनआईए ने वाझे के घर के पास से एक कार बरामद की है। उस गाड़ी में कई सबूत मिलने के दावे किए जा रहे हैं। इसके साथ ही मुलुंड टोलनाके के नाले के पास से अपराध में इस्तेमाल की गई शर्ट भी मिलने का दावा किया जा रहा है। हालांकि एनआईए अधिकारियों ने इस बारे में आधिकारिक रुप से कोई जानकारी नहीं दी है।

ये भी पढ़ेंः केंद्र और केजरीवाल फिर आमने-सामने,जानिये… पहले कब-कब बढ़े दोनों में टकराव!

एक शर्ट भी बरामद
मिली जानकारी के अनुसार रात आठ बजे वाझे को लेकर अधिकारी मुलुंड पूर्व के टोल नाके के पास पहुंचे। यहां करीब आधे घंटे तक अधिकारियों ने उनसे पूछताछ की। उसके बाद एनआईए के अधिकारी उन्हें लेकर रात करीब 9.30 बजे   एनआईए कार्यालय पहुंचे। एजेंसी के अधिकारियों के मुताबिक ये चार घंटे सचिन वाझे के लिए काफी तनावपूर्ण थे और मास्क लगाने के बाद भी उनके चेहरे पर तनाव साफ दिख रहा था।

ये भी पढ़ेंः कैडबरी पर गिरी सीबीआई की गाज!… पूरा मामला जानने के लिए पढ़ें ये खबर

हर दिन नया खुलासा
देश के सबसे बड़े उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के पास से स्कॉर्पियो कार की बरामदगी मामले में हर रोज नये खुलासे हो रहे हैं। इस मामले ने पुलिस विभाग के साथ ही महाराष्ट्र की राजनीति में भी भूचाल ला दिया है। इस प्रकरण में जहां मुंबई के पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह का तबादला कर होमगार्ड का डीजी बनाकर शंट कर दिया गया है, वहीं भाजपा के राज्य सभा सांसद नारायण राणे ने महाविकास आघाड़ी सरकार के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को हटाने की मांग तक कर डाली है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here