IIT Bombay: नाटक में भगवान राम-सीता का अपमान, IIT Bombay ने कई छात्रों पर लगाया जुर्माना

आईआईटी बॉम्बे ने विवादास्पद नाटक 'राहोवन' के लिए छात्रों पर जुर्माना लगाया, जिसने कलात्मक स्वतंत्रता बनाम धार्मिक संवेदनशीलता पर बहस छेड़ दी।

115

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान बॉम्बे (Indian Institute of Technology Bombay) ने इस साल मार्च में आयोजित संस्थान के प्रदर्शन कला महोत्सव (Arts Festival) में ‘राहोवन’ नामक नाटक में भाग लेने वाले एक छात्र (Students) पर 1.2 लाख रुपये का जुर्माना (Fine) लगाया है। रामायण पर आधारित इस नाटक का छात्रों के एक समूह ने विरोध (Protest) किया था। उन्होंने उन पर हिंदू धर्म (Hinduism) का अपमान (Insult) करने और राम (Ram) और सीता (Sita) का अपमान करने का आरोप लगाया। इस मामले में सात और छात्रों को सजा हुई।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, आईआईटी बॉम्बे के प्रवक्ता ने पूरे मामले पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया। आईआईटी बॉम्बे ने 4 जून को छात्र को ‘जुर्माना’ नोटिस जारी किया है। इससे पहले नाटक से जुड़ी शिकायतों के समाधान के लिए 8 मई को अनुशासन समिति की बैठक बुलाई गई थी। संबंधित छात्र ने बैठक में भाग लिया और चर्चा के आधार पर समिति ने दंडात्मक उपायों की सिफारिश की। नोटिस में कहा गया है कि 1.20 लाख रुपये का जुर्माना 20 जुलाई 2024 को डीन ऑफ स्टूडेंट अफेयर्स के कार्यालय में जमा करना होगा।

यह भी पढ़ें- PM Modi J-K Visit: PM Modi का दो दिवसीय जम्मू-कश्मीर दौरा आज से शुरू, श्रीनगर में युवाओं को देंगे बड़ा संदेश

समूह ने पहले नाटक की निंदा की थी
सजा नोटिस में कहा गया है कि इस सजा का उल्लंघन करने पर आगे प्रतिबंध लगाया जाएगा। यह नोटिफिकेशन ‘आईआईटी बी फॉर इंडिया’ ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर पोस्ट किया है। जो आईआईटी बॉम्बे परिसर का एक समूह है और भारतीय सभ्यता के मूल्यों को बनाए रखने का दावा करता है। समूह ने पहले नाटक की निंदा की थी और संस्थान की कार्रवाई का स्वागत किया था।

नाटक में रामायण को अपमानजनक तरीके से दिखाया गया
ग्रुप की पोस्ट में लिखा गया कि इस नाटक में रामायण को अपमानजनक तरीके से दिखाया गया है। इन छात्रों पर भगवान राम, माता सीता और भगवान लक्ष्मण को बदनाम करने के लिए शिक्षा की स्वतंत्रता का दुरुपयोग करने का भी आरोप लगाया गया था।

जिन छात्रों पर कार्रवाई हुई उन्होंने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया। फिलहाल उनके सहकर्मियों ने पुष्टि की है कि जुर्माना इस महीने की शुरुआत में लगाया गया था। छात्रों ने कहा कि नाटक में शामिल आठ छात्रों के खिलाफ कार्रवाई की गई है, जिनमें जुलाई में स्नातक करने वाले छात्र भी शामिल हैं।

31 मार्च की घटना
गौरतलब है कि इस साल 31 मार्च को आईआईटी बॉम्बे के ओपन एयर थिएटर में इस नाटक का मंचन किया गया था। 8 अप्रैल को सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर ‘आईआईटी बी फॉर भारत’ ने इस नाटक की निंदा करते हुए इसे भगवान राम और रामायण का मजाक उड़ाने वाला बताया था, जिसका समर्थन प्रदर्शन के एक वीडियो क्लिप के जरिए किया गया था।

देखें यह वीडियो- 

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.