Eighth day of Sikkim tragedy: मृतकों की संख्या 37 हुई, 461 लोगों को बचाया गया

उत्तर सिक्किम से 75 लोगों को मंगन के रिंगहिम हेलीपैड पर लाया गया, जिनमें 17 पर्यटक, 55 स्थानीय और 3 कर्मचारी शामिल हैं।

84

 भारतीय वायु सेना के हेलीकॉप्टरों ने 12 अक्टूबर को उत्तरी सिक्किम से फंसे कुल 461 लोगों को बचाया। वायु सेना के विमानों ने मंगन के रिंगहिम हेलीपैड पर 10, लिबिंग में सेना के हेलीपैड पर 5 और पाकिम ग्रीनफील्ड हवाई अड्डे पर 6 उड़ानें भरीं।

सिक्किम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के मुताबिक, उत्तर सिक्किम से 75 लोगों को मंगन के रिंगहिम हेलीपैड पर लाया गया, जिनमें 17 पर्यटक, 55 स्थानीय और 3 कर्मचारी शामिल हैं। इस तरह 99 लोगों को राजधानी गंगटोक के लिबिंग स्थित सेना के हेलीपैड पर लाया गया, जिनमें 85 पर्यटक, 12 स्थानीय और 2 सेना के जवान शामिल हैं।

कुल 287 लोगों को पाकिम ग्रीनफील्ड हवाई अड्डे पर लाया गया
इसी तरह, कुल 287 लोगों को पाकिम ग्रीनफील्ड हवाई अड्डे पर लाया गया, जिनमें लाचेन से 138 और लाचुंग से 126 लोग शामिल थे। लाचेन से 6 और लाचुंग से 17 स्थानीय लोगों को भी लाया गया है। बाढ़ प्रभावित राज्य के चार जिलों से अब तक कूल 3871 लोगों को बचाया गया है।

Life Time Achievement Award: महामेट्रो के पूर्व प्रबंध निदेशक डॉ. दीक्षित लाइफ टाइम अचिवमेंट अवार्ड से सम्मानित

मृतकों की संख्या 37 पहुंची
12 अक्टूबर को तीस्ता त्रासदी के आठवें दिन तक मरने वालों की संख्या 37 तक पहुंच गई है। 78 लोग अभी भी लापता हैं, जिनमें मंगन के 17, गंगटोक के 25, पाकिम के 30 और नामची के 6 लोग शामिल हैं। चार जिलों में स्थापित 21 राहत शिविरों में कुल 3709 बाढ़ प्रभावित लोग शरण लिये हुए हैं।

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.