शशि थरुर ने अपनी ही पार्टी के स्टैंड पर उठाए सवाल! क्या कांंग्रेस करेगी कार्रवाई?

पहले भी कई अपुष्ट और गैरजिम्मेदाराना ट्वीट को लेकर अपने विरोधियों और मीडिया के निशाने पर आ चुके कांग्रेसी सांसद शशि थरुर एक बार फिर ऐसे ही कारण से चर्चा में हैं। उन्होंने 1 जून को एक ट्वीट में देश की मोदी सरकार द्वारा वैक्सीन के निर्यात पर बैन लगाने को लेकर सवाल उठाए हैं।

कांग्रेस सासंद शशि थरुर की पहचान कांग्रेस के वरिष्ठ और एक सुलझे हुए नेता के रुप में है। लेकिन पिछले कुछ महीनों से उनके ट्वीट ने उनकी इस तरह की पहचान पर प्रश्न चिह्न लगा दिए हैं। पहले भी कई अपुष्ट और गैरजिम्मेदारान ट्वीट को लेकर अपने विरोधियों और मीडिया के निशाने पर आ चुके थरुर एक बार फिर ऐसे ही कारण से चर्चा में हैं।

दरअस्ल उन्होंने 1 जून को एक ट्वीट में देश की मोदी सरकार द्वारा वैक्सीन के निर्यात पर बैन लगाने को लेकर सवाल उठाए हैं। थरुर के इस ट्वीट को लेकर यूजर्स ने उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया है। ट्रोलर ये पूछ रहे हैं कि एक ओर जहां कांग्रेस वैक्सीन निर्यात के मुद्दे पर मोदी सरकार को घेर रही है, वहीं उसी पार्टी के सांसद अब सरकार से इसी मुद्दे पर सवाल पूछ रहे हैं।

वैक्सीन निर्यात पर कांग्रेस का सवाल
बता दें कि जनवरी, फरवरी और मार्च में भी भारत द्वारा बड़े पैमाने पर विदेशों में वैक्सीन भेजी गई थी। इसके पीछे कारण यह था कि इन महीनों में देश में कोरोना संक्रमण काफी कम हो गया था और लगने लगा था कि देश से उसकी  विदाई करीब है। लेकिन अप्रैल से एक बार फिर देश में कोरोना ने कहर बरपाना शुरू कर दिया और विशेषज्ञों ने कहा कि देश में कोरोना की दूसरी लहर आई है। सवाल यह है कि जब देश से वैक्सीन विदेश भेजी जा रही थी, तब कांग्रेस मौन साधे रही, लेकिन जैसे ही देश में कोरोना का संक्रमण बढ़ना शुरू हो गया, वह इस मुद्दे पर मोदी सरकार पर हमलावर हो गई। फिलहाल राहुल गांधी से लेकर पार्टी के कई वरिष्ठ नेता इसके लिए सरकार को बख्शने के मूड में नहीं है।

 ये भी पढ़ेंः क्या शशि थरुर पर अफवाह फैलाने के लिए दर्ज किया जाएगा मामला?

दिल्ली में लगाए पोस्टर
इसी रणनीति के तहत कांग्रेस ने पिछले दिनों राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कई जगहों पर पोस्टर लगाए थे, जिसमें लिखा था, ‘मोदी जी हमारे बच्चों की वैक्सीन दूसरे देशों में क्यों भेज दी।’ इस पोस्टर को लेकर पुलिस ने कई लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी और कुछ लोगों को गिरफ्तार भी किया था। बाद में राहुल गांधी समेत कई कांग्रेसी नेताओं ने इस पोस्टर को अपने ट्वीटर हैंडल पर पोस्ट किया था। राहुल गांधी ने खुद को गिरफ्तार करने की चुनौती दी थी। खुद शशि थरुर ने भी दिल्ली पुलिस द्वारा एफआईआर दर्ज करने के बाद पोस्टर ट्वीट किया था। उन्होंने लिखा था, ‘कोरोना मरीजों की मदद करने की बजाय दिल्ली पुलिस ने 17 एफआईआर दर्ज की है और 15 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें पेंटर, मजदूर और ऑटो ड्राइवर्स शामिल हैं। मैं एकजुटता दिखाने के लिए यह पोस्टर पोस्ट कर रहा हूं।’

ये भी पढेंः दवा के लिए हाहाकार और दारू का त्राहिमाम! ठर्रे से 87 की मौत

पार्टी के स्टैंड के विपरीत मोदी सरकार से पूछा सवाल
अब कांग्रेस के काफी समझदार माने जाने वाले सांसद शशि थरुर ने पार्टी के स्टैंड के विपरीत मोदी सरकार पर सवाल खड़े किए हैं। एक तरफ जहां उनकी पार्टी केंद्र सरकार को इस बात के लिए पानी पी-पीकर आलोचना कर रही है कि आपने वैक्सीन विदेशों में क्यों भेजी, तो थरुर पूछ रहे हैं कि आपने वैक्सीन के निर्यात पर रोक क्यों लगाई?

ट्विटर पर क्या लिखा?
शशि थरूर ने 1 जून को वैक्सीन एक्सपोर्ट को लेकर एक ट्वीट किया, ‘जब डब्ल्यूएचओ की सीनियर अधिकारी और प्रतिष्ठित भारतीय कह रही हैं कि वैक्सीन एक्सपोर्ट पर बैन के निर्णय से 91 देशों पर गंभीर प्रभाव पड़ा है, तो जो विश्व गुरू बनने वाले हैं, उन्हें अपना सिर शर्म से झुका लेना चाहिए।’

डब्ल्यूएचओ ने कही थी ये बात
दरअस्ल एक रिपोर्ट में डब्ल्यूएचओ ने कहा था कि वैक्सीन एक्सपोर्ट पर बैन लगाने के भारत के निर्णय का सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के उत्पाद पर निर्भर 91 देशों पर गंभीर प्रभाव पड़ रहा है। इसी को लेकर थरुर ने 1 जून को ट्वीट कर सरकार को कठघरे में खड़ा करने की कोशिश की, लेकिन वास्तव में उन्होंने अपनी ही पार्टी को कठघरे में खड़ा कर दिया।

ट्विटर यूजर्स के निशाने पर थरुर
इस बात को लेकर ट्विटर यूजर्स शशि थरुर को निशाना बना रहे हैं। स्किन डॉक्टर नामक एक यूजर ने लिखा,’वैक्सीन एक्सपोर्ट करने पर कहते हैं कि मोदीजी हमारे बच्चों की वैक्सीन विदेशों में क्यों भेज दी और जब एक्सपोर्ट करना बंद कर दिया तो कह रहे हैं कि 91 देशों पर गंभीर प्रभाव पड़ रहा है। चित्त भी मेरी, पट भी मेरी और सिक्का डब्ल्यूएचओ का।’ कुछ यूजर्स ने पार्टी के स्टैंड पर भी सवाल खड़े किए हैं।

क्या कांग्रेस करेगी कार्रवाई?
हालांकि कांग्रेस पार्टी की ओर से थरुरस की इस समझदारी को लेकर कोई बयान नहीं आया है। न राहुल गांधी ने इस पर कोई प्रतिक्रिया दी है और ना ही पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ही कुछ कहा है, जबकि सुरजेवाला छोटी-छोटी बातों पर लंबी-लंबी प्रतिक्रिया देते रहते हैं। ऐसे में सवाल यह उठता है कि पार्टी स्टैंड से अलग हटकर इस तरह के गैरजिम्मेदाराना बयान देने के लिए क्या शशि थरुर पर कांग्रेस कार्रवाई करेगी?

बीमार चल रहे हैं थरुर
फिलहाल शशि थरुर अस्वस्थ हैं और अस्पताल में भर्ती हैं। काफी लोगों ने उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना की है। इसके लिए थरुर ने उन्हें धन्यवाद दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here