ग्रीन-क्लीन एनवायरमेंट-ग्रीन मोबिलिटी को व्यापक बनाने गुजरात सरकार का बड़ा फैसला, इस मॉडल पर विकसित होंगे सभी स्टेशन

गुजरात लगभग 1002 सीएनजी स्टेशनों के साथ देश में अग्रणी है। मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने राज्य में सीएनजी स्टेशनों का दायरा बढ़ाने और सीएनजी वाहन मालिकों को सीएनजी ईंधन आसानी से उपलब्ध कराने के उद्देश्य से राज्य में पीपीपी मॉडल पर इस फुल डीलर ओन्ड ऑपरेटेड स्कीम को शुरू करने की अनुमति दी है।

401

गुजरात सरकार ने राज्य में ग्रीन-क्लीन एनवायरमेंट और ग्रीन मोबिलिटी को अधिक व्यापक बनाने के लिए पीपीपी मॉडल के माध्यम से सीएनजी स्टेशन विकसित करने का नवीन अभिगम अपनाया है। मुख्यमंत्री भूपेन्द्र पटेल ने इस उद्देश्य से राज्य में फुल डीलर ओन्ड डीलर ऑपरेटेड-एफडीओडीओ सीएनजी योजना को मंजूरी दी है।

यह योजना गुजरात गैस लिमिटेड और साबरमती गैस लिमिटेड द्वारा कार्यान्वित की जाएगी। इतना ही नहीं, योजना के लिए पारदर्शी तरीके से चयन प्रक्रिया अपनाई जाएगी। मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल की अध्यक्षता और ऊर्जा मंत्री कनुभाई देसाई की उपस्थिति में हाल ही में हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया है। केन्द्र सरकार के दिशानिर्देशन में राज्य सरकार ने ग्रीन ग्रोथ के अंतर्गत गैस आधारित अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न पहल की हैं। देश में एकमात्र गुजरात में ही समग्र राज्य में गैस ग्रिड नेटवर्क फैला हुआ है तथा कई ज़िले इस गैस नेटवर्क से जुड़े हुए हैं।

1002 सीएनजी स्टेशनों के साथ देश में अग्रणी है गुजरात
उल्लेखनीय है कि गुजरात लगभग 1002 सीएनजी स्टेशनों के साथ देश में अग्रणी है। मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने राज्य में सीएनजी स्टेशनों का दायरा बढ़ाने और सीएनजी वाहन मालिकों को सीएनजी ईंधन आसानी से उपलब्ध कराने के उद्देश्य से राज्य में पीपीपी मॉडल पर इस फुल डीलर ओन्ड ऑपरेटेड स्कीम को शुरू करने की अनुमति दी है।

डीलर की होगी जमीन की अनुमति लेने और दस्तावेज प्राप्त करने की जिम्मेदारी
इस योजना के अंतर्गत सीएनजी स्टेशन स्थापित करने के लिए जमीन के संबंध में अनुमति लेने और दस्तावेज प्राप्त करने की पूरी जिम्मेदारी डीलर की होगी। सीएनजी स्टेशन में गुजरात गैस लिमिटेड और साबरमती गैस लिमिटेड के निर्देशों के अनुसार स्टेशन सेटअप, मैकेनिकल या इलेक्ट्रिकल निर्माण का कार्य भी डीलर को ही करना होगा। इतना ही नहीं, सीएनजी उपकरण के लिए आवश्यक कंप्रेसर, कैस्केड, सीएनजी डिस्पेंसर, ट्यूबिंग आदि खरीदने और फिट करने और इसे चालू करने की भी जिम्मेदारी डीलर की होगी। गुजरात गैस लिमिटेड और साबरमती गैस लिमिटेड लगभग 3050 किलोमीटर के स्टील लाइन नेटवर्क के माध्यम से डीलर के स्टेशनों तक गैस पहुंचाई जाएगी। जहां इन स्टील लाइन नेटवर्क से गैस नहीं पहुंच सकती, उन स्थानों पर डीलर्स अपने हल्के, मध्यम और भारी वाणिज्यिक वाहनों से भूमिगत पाइपलाइन या बूस्टर कंप्रेसर के बिना ही सीएनजी की आपूर्ति करेंगे। (हि.स.)

यह भी पढ़ें – G-20 Digital Summit: रूसी राष्ट्रपति पुतिन भी लेंगे भाग, इस मुद्दों पर होगी चर्चा

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.