चालबाज चीन की एक और चाल, कंबोडिया में चोरी छिपे ऐसे बढ़ा रहा है अपनी ताकत

नया नौसैनिक अड्डा चीन का एक वैश्विक शक्ति बनने की अपनी आकांक्षाओं के समर्थन में दुनिया भर में सैन्य सुविधाओं का एक नेटवर्क बनाने की बीजिंग की रणनीति का हिस्सा है।

कंबोडिया में चीन सैन्य उपयोग के लिए नौसैन्य सुविधा का निर्माण कर रहा है, जो इस तरह की दूसरी विदेशी चौकी है और रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में चीन की ये पहली चौकी है। जानकारी के अनुसार सैन्य उपस्थिति कंबोडिया के रीम नेवल बेस के उत्तरी हिस्से में थाईलैंड की खाड़ी पर होगी।

नौसैनिक सुविधा का निर्माण
चीन पूरी दुनिया में अपने सैन्य बेस को फैलाने के लिए आर्थिक रूप से कमजोर देशों को कर्ज देकर उनके यहां घुसपैठ कर रहा है। अब इसी सूची में कंबोडिया भी शामिल हो गया है। वहां पर चीन नौसैनिक सुविधा का निर्माण कर रहा है, जो असल में सैन्य बेस की तरह काम करेगा। इससे चीन हवा और समुद्र दोनों ही तरीकों से और ज्यादा ताकतवर हो जाएगा।

ये भी पढ़ें – ज्ञानवापी प्रकरण: स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद की याचिका पर क्या होगा निर्णय?

पूर्वी अफ्रीकी देश जिबूती में नौसैनिक सुविधा के बाद अभी यह चीन का एकमात्र अन्य विदेशी सैन्य अड्डा है। रिपोर्ट के अनुसार, इस तरह के ठिकाने थिएटर में सैन्य बलों की तैनाती और अमेरिकी सेना की खुफिया निगरानी को सक्षम बना सकते हैं।

बता दें कि नया नौसैनिक अड्डा चीन का एक वैश्विक शक्ति बनने की अपनी आकांक्षाओं के समर्थन में दुनिया भर में सैन्य सुविधाओं का एक नेटवर्क बनाने की बीजिंग की रणनीति का हिस्सा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here