Chhattisgarh: अबूझमाड़ में मुठभेड़ में मारे गए 8 माओवादी, एक सुरक्षाकर्मी हुतात्मा

अबूझमाड़ एक पहाड़ी, जंगली इलाका है जो नारायणपुर, बीजापुर जिले और दंतेवाड़ा जिलों में आता है। भौगोलिक रूप से अलग-थलग और काफी हद तक दुर्गम यह इलाका माओवादियों की गतिविधियों का गढ़ माना जाता है।

125

Chhattisgarh: अबूझमाड़ (Abujhmad) में सुरक्षा बलों (Security Forces) के साथ मुठभेड़ (Encounter) में कम से कम 8 माओवादी मारे (8 Maoists killed) गए हैं। एक जवान की ड्यूटी के दौरान मौत (A security personnel martyred) हो गई जबकि दो अन्य घायल हो गए। पिछले दो दिनों से छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले में लंबी गोलीबारी चल रही है।

अबूझमाड़ एक पहाड़ी, जंगली इलाका है जो नारायणपुर, बीजापुर जिले और दंतेवाड़ा जिलों में आता है। भौगोलिक रूप से अलग-थलग और काफी हद तक दुर्गम यह इलाका माओवादियों की गतिविधियों का गढ़ माना जाता है।

यह भी पढ़ें- Prashant Kishor: पीके को अच्छा नहीं लगा नीतीश कुमार का पीएम मोदी का पैर छूना, कह दी यह बात

नक्सल विरोधी अभियान
पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार, आज सुबह अबूझमाड़ के जंगल में उस समय मुठभेड़ शुरू हो गई जब चार जिलों – नारायणपुर, कांकेर, दंतेवाड़ा और कोंडागांव के सुरक्षाकर्मियों की एक संयुक्त टीम नक्सल विरोधी अभियान पर निकली थी। चार जिलों के जिला रिजर्व गार्ड (डीआरजी), स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) और भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी) की 53वीं बटालियन के जवानों की भागीदारी वाला यह अभियान 12 जून को शुरू किया गया था।

यह भी पढ़ें- Delhi Liquor Policy Case: नियमों का उल्लंघन सुनीता केजरीवाल को पड़ा महंगा, दिल्ली हाईकोर्ट ने दिया यह निर्देश

नारायणपुर में 6 माओवादी मारे गए
यह घटना छत्तीसगढ़ के नारायणपुर जिले में सुरक्षा बलों द्वारा छह माओवादियों को मार गिराने के कुछ दिनों बाद हुई है। मारे गए माओवादियों पर कुल 38 लाख रुपये का इनाम था। यह ऑपरेशन पीपुल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी (पीएलजीए) कंपनी नंबर 6 पर सुरक्षा बलों द्वारा किया गया सबसे बड़ा हमला था, जिसे माओवादियों के हमलावर बल का एक स्तंभ माना जाता है।

यह भी पढ़ें- Srinivas Hegde Dies: चंद्रयान-1 मिशन निदेशक का 71 वर्ष की आयु में हुआ निधन

पुलिस महानिरीक्षक का बयान
पुलिस महानिरीक्षक (बस्तर रेंज) सुंदरराज पी ने पिछले सप्ताह मीडिया को बताया, “पीएलजीए सैन्य कंपनी नंबर 6 और पूर्वी बस्तर डिवीजन संरचनाओं के माओवादियों की मौजूदगी के बारे में इनपुट के आधार पर नारायणपुर, कोंडागांव, दंतेवाड़ा और बस्तर जिलों की सीमा पर 6 जून की देर रात सुरक्षाकर्मियों की अलग-अलग टीमों के साथ अभियान शुरू किया गया था।” सुंदरराज ने कहा कि घटनास्थल की तलाशी के दौरान अलग-अलग जगहों से वर्दी पहने छह नक्सलियों के शव बरामद किए गए, साथ ही दो .303 राइफल, एक .315 बोर राइफल, 10 बीजीएल (बैरल ग्रेनेड लांचर) के गोले, एक एसएलआर मैगजीन, एक कुकर बम, पांच बैग, भारी मात्रा में विस्फोटक, दवाइयां और दैनिक उपयोग की वस्तुएं बरामद की गईं।

यह वीडियो भी देखें-

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.