Bomb Threat in Delhi: दिल्ली और नोएडा के स्कूलों को बम से उड़ाने की धमकी, वीपीएन के जरिए भेजा गया ईमेल

दिल्ली और नोएडा के कई स्कूलों को बम से उड़ाने की धमकी भरे ईमेल भेजे गए हैं। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।

338

दिल्ली (Delhi) और नोएडा (Noida) के 80 से ज्यादा स्कूलों (Schools) में बुधवार (1 मई) को उस वक्त हड़कंप मच गया। जब एक ईमेल (E-mail) के जरिए बम (Bomb) की धमकी (Threat) दी गई। बताया जा रहा है कि यह अफवाह वाला ईमेल वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क (Virtual Private Network) के जरिए भेजा गया था। वर्चुअल प्राइवेट नेटवर्क का मतलब होता है वीपीएन। यह वो चाबी है जिसकी मदद से इंटरनेट की दुनिया के कई बंद दरवाजे खोले जा सकते हैं। इसके अलावा इसका इस्तेमाल ऑनलाइन सुरक्षा और प्राइवेसी की रक्षा के लिए भी किया जाता है।

हालांकि, कुछ लोग इस तकनीक का इस्तेमाल अपने इंटरनेट सर्वर को बाउंस करने के लिए भी करते हैं। यानी वे भले ही दिल्ली में बैठे हों लेकिन इंटरनेट के जरिए जो भी सर्च करेंगे, ईमेल भेजेंगे या कॉल करेंगे, उसकी लोकेशन दूसरे देश में दिखाई देगी। यही वजह है कि वीपीएन के जरिए होने वाले अपराधों को ट्रैक करने में सुरक्षा एजेंसियों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

यह भी पढ़ें- History of May 2: अमेरिका ने लादेन को मार गिराया

दिल्ली में सुरक्षा बढ़ा दी गई
स्कूलों में बम की सूचना मिलने के बाद पुलिस ने भीड़भाड़ वाले इलाकों में सुरक्षा बढ़ा दी है। आईजीआई एयरपोर्ट, नई और पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन, कश्मीरी गेट और आनंद विहार बस स्टैंड, धौला कुआं, कनॉट प्लेस, करोल बाग, चांदनी चौक, सरोजनी नगर, लाजपत नगर पर पुलिस अलर्ट पर है।

धोखाधड़ी करने के लिए वीपीएन का इस्तेमाल
भारत समेत पूरी दुनिया में साइबर अपराधी अपराध करने के लिए वीपीएन का इस्तेमाल करते हैं, दरअसल, यह एक ऐसी तकनीक है जिसकी मदद से अपराधी सर्वर की लोकेशन बदल देते हैं, धन्नी अगर आप दिल्ली में बैठे हैं और अमेरिका के सर्वर और लोकेशन से किसी दूसरे व्यक्ति को ईमेल भेजना चाहते हैं या ऑनलाइन कॉल करना चाहते हैं, तो आप यह काम बेहद आसानी से कर सकते हैं। इसके साथ ही वीपीएन का इस्तेमाल करके आप भारत में बैन वेबसाइट को भी खोल सकते हैं। कई बार अपराधी एक-दूसरे से संपर्क करने, ऑनलाइन धोखाधड़ी करने के लिए वीपीएन का इस्तेमाल करते हैं।

पिछले कुछ सालों में मिले कई धमकी भरे मेल
पुलिस अधिकारियों का कहना है कि नवंबर 2022 से मई 2023 के बीच दिल्ली के तीन स्कूलों को कम से कम पांच फर्जी धमकी भरे ईमेल मिले। जिनमें से दो स्कूलों को दो-दो ऐसे ईमेल मिले, जबकि तीसरे स्कूल को एक ईमेल मिला। वहीं, दो स्कूलों में से साउथ दिल्ली के सादिक नगर स्थित इंडियन स्कूल को पहला फर्जी धमकी भरा ईमेल 28 नवंबर 2022 को “[email protected]” से और दूसरा 12 अप्रैल को “[email protected]” से मिला।

देखें यह वीडियो- 

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.