Belgaum Court: बेलगांव कोर्ट परिसर में की पाकिस्तान के समर्थन में नारेबाजी, वकीलों ने कर दी धुनाई! जानिये, कौन है आरोपी

पुजारी ने ही बेलगाम जेल से केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को फोन किया था और 100 करोड़ रुपये की मांग की थी। इसके बाद उसे नागपुर पुलिस ने हिरासत में ले लिया था।

116

Belgaum Court: वकीलों ने 12 जून को बेलगांव अदालत परिसर में कथित तौर पर विवादास्पद घोषणा करने के लिए एक आरोपी की धुनाई कर दी। इससे कुछ देर के लिए कोर्ट परिसर में अफरा-तफरी मच गयी। पुलिस ने तुरंत हस्तक्षेप किया और आरोपी को सुरक्षित बाहर निकाला।

नितिन गडकरी को धमकी देने का आरोप
मिली जानकारी के मुताबिक, बेलगाम जिला न्यायालय परिसर में एक कुख्यात गैंगस्टर द्वारा ‘पाकिस्तान’ के समर्थन में नारे लगाए गए। यह घोषणा करने वाले अभियुक्त की न्यायालय के कुछ वकीलों तथा नागरिकों ने पिटाई कर दी। आरोपी जयेश पुजारी उर्फ ​​कांता (स्थान पुत्तूर, जिला दक्षिण कन्नड़, वर्तमान में हिंडालगा जेल), जो केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और आईपीएस अधिकारी आलोक कुमार को जान से मारने की धमकी देने के आरोप में गिरफ्तार है, ने अदालत में पाकिस्तान के समर्थन में नारे लगाए।

 वकीलों ने की धुनाई
जयेश पुजारी को बेलगाम में प्रथम श्रेणी मजिस्ट्रेट IV कोर्ट के सामने लाया गया। इसी दौरान उन्होंने अचानक पाकिस्तान के समर्थन में नारे लगाने शुरू कर दिए। इससे वहां हड़कंप मच गया। अधिवक्ताओं ने उसकी नारेबाजी पर आपत्ति जताई और घोषणा का विरोध किया। हालांकि, उसके बाद भी विवादास्पद घोषणाएं जारी रहीं। इससे गुस्साए वकीलों ने संदिग्ध को घेर लिया और धुनाई कर दी। इसके चलते सुरक्षा के लिए तैनात पुलिस आगे आई और पुजारी को वहां से बाहर ले गई। इससे परिसर में हड़कंप मच गया। मालूम हो कि संदिग्ध को एपीपीएमसी पुलिस ने हिरासत में ले लिया है।

बता दें कि 14 जनवरी को बेलगाम जेल से धमकी भरा फोन आया था। फिर उसी जयेश कांता उर्फ ​​जयेश पुजारी के नाम से धमकी भरा कॉल आया। जयेश पुजारी को गिरफ्तार कर लिया गया। पूछताछ में पता चला कि वह दाऊद इब्राहिम गैंग का गुर्गा है।

Uttar Pradesh: चार दिवसीय दौरे पर गोरखपुर पहुंचे संघ प्रमुख भागवत, जानिये पूरा कार्यक्रम

कुख्यात आतंकवादियों से संबंध
पुजारी ने ही बेलगाम जेल से केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी को फोन किया था और 100 करोड़ रुपये की मांग की थी। इसके बाद उसे नागपुर पुलिस ने हिरासत में ले लिया और उनके खिलाफ यूएपीए के तहत कानूनी कार्रवाई की गई। इसी बीच एनआईए की टीम ने इस मामले में जयेश पुजारी को गिरफ्तार कर लिया। इससे पहले एनआईए की जांच में पता चला था कि उसके कुख्यात आतंकियों से संबंध हैं।

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.