Vigilance Department: अरविंद केजरीवाल को एक और झटका, विजिलेंस विभाग ने की ये कार्रवाई

आम आदमी पार्टी के सिर्फ नेता ही नहीं मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के निजी सचिव विभव कुमार भी ईडी की जांच के दायरे में हैं।

211

दिल्ली (Delhi) के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Chief Minister Arvind Kejriwal) की मुश्किलें दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही हैं। केजरीवाल के निजी सचिव विभव कुमार (Private Secretary Vibhav Kumar) को बर्खास्त (Dismissed) करने का आदेश जारी कर दिया गया है। दिल्ली विजिलेंस विभाग (Vigilance Department) ने यह आदेश जारी किया है। कथित शराब घोटाला मामले (Alleged Liquor Scam Case) में बिभव कुमार से ईडी (ED) भी कई बार पूछताछ कर चुकी है।

विभव कुमार के खिलाफ 2007 में एक कर्मचारी को धमकी देने का मामला दर्ज किया गया था। इसके बाद निजी सचिव के पद पर विभव कुमार की नियुक्ति को अवैध करार दिया गया है। इस सोमवार को विभव कुमार से ईडी ने दोबारा पूछताछ की।

यह भी पढ़ें- Weather News: मध्य प्रदेश समेत कई राज्यों में आज ओलावृष्टि, बारिश और तेज तूफान की संभावना, 31 जिलों में अलर्ट

केजरीवाल की गिरफ्तारी उचित
बता दें कि केजरीवाल फिलहाल तिहाड़ जेल में हैं। लेकिन पिछले 2 दिनों से उन्हें बड़ा झटका लगा है। यह ऐसे वक्त में बड़ी कार्रवाई मानी जा रही है जब कथित शराब घोटाला मामले में केजरीवाल की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। मंगलवार को हुई सुनवाई में दिल्ली हाई कोर्ट ने कहा कि केजरीवाल की गिरफ्तारी उचित थी और इस संबंध में दायर याचिका को भी खारिज कर दिया।

विशेष पीठ का गठन नहीं
फिर बुधवार को वकीलों को हफ्ते में पांच बार मिलने की इजाजत देने की याचिका दायर की गई, जिसे भी दिल्ली हाई कोर्ट ने खारिज कर दिया। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया। मांग की गई कि यहां तत्काल सुनवाई की जाए। लेकिन यहां भी विशेष पीठ का गठन नहीं किया गया।

मंत्री राजकुमार आनंद ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया
दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ चल रही कार्रवाई के चलते उनकी ही सरकार के एक मंत्री राजकुमार आनंद ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। इसके बाद दिल्ली के विजिलेंस विभाग ने विभव कुमार को निजी सचिव पद से बर्खास्त करने का आदेश दिया है। इन सभी घटनाक्रमों से केजरीवाल को एक और बड़ा झटका लगा है।

देखें यह वीडियो- 

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.