अमेरिकाः 4 यहूदियों को बंधक बनाने वाला बंदूकधारी ढेर, ‘पाकिस्तान की बेटी’ की रिहाई की कर रहा था मांग!

बंधक बनाने वाला अफिया सिद्दीकी का भाई होने का दावा कर रह रहा था। हालांकि अफिया के भाई ने कहा था कि बंधक बनाने वाला अफिया का भाई नहीं है।

अमेरिका के टेक्सास में यहूदियों के एक प्रार्थानास्थल में घुसकर चार लोगों को बंधक बनाने वाले व्यक्ति को पुलिस ने ढेर कर दिया है। गवर्नर ग्रेस एबॉट ने इस बात की जानकारी दी है। उन्होंने बताया कि चारों लोग बिलकुल सुरक्षित हैं और उन्हें कोई चोट नही आई है। बंधक बनाने वाले बंदूकधारी की पहचान मुहम्मद सिद्दीकी के रुप में हुई है।

अमेरिका के टेक्सास में कथित तौर पर चार लोगों को बंधक बना लिया गया था। अधिकारियों का कहना है कि टेक्सास के एक प्रार्थनास्थल में चार यहुदियों को बंधक बना लिया गया था। हालांकि बाद में एक बंधक को छोड़ दिया गया था। बंधक बनाने वाला पाकिस्तानी वैज्ञानिक और आतंकी अफिया सिद्दीकी की रिहाई की मांग कर रहा था। आफिया पर अफगान हिरासत के दौरान अमेरिकी सैन्य अधिकारियों की हत्या का षड्यंत्र रचने का आरोप है। वह इस समय टेक्सास की एक  जेल में बंद है।

आफिया का भाई होने का दावा
बंधक बनाने वाला अफिया सिद्दीकी का भाई होने का दावा कर रह रहा था। हालांकि अफिया के भाई ने कहा था कि बंधक बनाने वाला अफिया का भाई नहीं है। घटना के समय प्रार्थानास्थल में होने वाले धार्मिक आयोजनों का सीधा प्रसारण फेसबुक पर शुरू था। इसी दौरान एक वह व्यक्ति बंदूक लेकर वहां घुस गया और चार लोगो को बंधक बना लिया।

कौन है अफिया सिद्दीकी?
आफिया सिद्दीकी को लेडी अल-कायदा के नाम से भी जाना जाता है। वह पाकिस्तानी नागरिक है। 2010 में, 14 दिनों की पूछताछ के बाद, सिद्दीकी को न्यूयॉर्क में एक संघीय न्यायाधीश ने 86 साल जेल की सजा सुनाई थी। एक जूरी ने उसे एक अमेरिकी नागरिक और सरकारी कर्मचारियों की हत्या के प्रयास के साथ-साथ अमेरिकी अधिकारियों और कर्मचारियों पर हमला करने का दोषी पाया था। अफिया सिद्दीकी एक पाकिस्तानी वैज्ञानिक और आंतकी है। उसने मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से डिग्री और ब्रैंडिस यूनिवर्सिटी से डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की है।

ये भी पढ़ेंः इसलिए सीएम चन्नी को पंजाब में 14 फरवरी को नहीं चाहिए चुनाव, आयोग को पत्रकर लिखकर की यह मांग!

पाकिस्तान की बेटी
पाकिस्तान में, अफिया एक नायिका के रूप में जानी जाती है। उसके परिवार और समर्थकों का कहना है कि उस पर झूठा आरोप लगाया गया था और उसे 9/11 के बाद आतंक के खिलाफ युद्ध में बलि का बकरा बनाया गया था। 2018 में, पाकिस्तान की सीनेट ने सर्वसम्मति से सिद्दीकी को “राष्ट्र की बेटी” कहते हुए वोट दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here