Diwali 2023: अहमदाबाद में आग ही आग! जानिये, कितने जगहों पर हुईं आगजनी की घटनाएं

अहमदाबाद दमकल विभाग के अनुसार दिवाली पर पटाखों के कारण आग की सर्वाधिक घटनाएं हुई हैं। खुले प्लॉट और कचरे के ढेर में भी आग लगने की घटनाएं हुईं।

443

दिवाली की रात अहमदाबाद की सड़कों पर दमकल की गाड़ियां दौड़ती रहीं। पटाखों के कारण जगह-जगह आग की घटनाएं हुईं, जिस पर काबू पाने के लिए दमकल कर्मचारी रात भर मशक्कत करते रहे। पिछले 3 दिनों के दौरान अहमदाबाद में आग लगने की 200 से अधिक घटनाएं दर्ज की गई हैं। अहमदाबाद में 12 नवंबर की रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक आग लगने के 88 कॉल मिले। वहीं, पिछले 24 घंटे में 137 जगहों पर आग लगी।

अहमदाबाद दमकल विभाग के अनुसार दिवाली पर पटाखों के कारण आग की सर्वाधिक घटनाएं हुई हैं। खुले प्लॉट और कचरे के ढेर में भी आग लगने की घटनाएं हुईं। शहर के वासणा के स्वामीनारायण पार्क-3 की पीछे मनपा के प्लॉट में देर रात भीषण आग लगी। दमकल की 7 गाड़ियों ने तत्काल घटनास्थल पर पहुंचकर आग बुझाया। झाड़ी और कचरे का ढेर होने की वजह से यहां आग ने विकराल रूप धारण किया था। आग की लपटें एक किलोमीटर दूर से दिखाई दे रही थी।

घटनास्थल पर अमित शाह भी पहुंचे
घटना की जानकारी मिलने पर एलिसब्रिज के विधायक अमित शाह भी मौके पर पहुंच गए। वेजलपुर क्षेत्र में बकेरी सिटी के एक मकान की गैलरी में रॉकेट के कारण आग लगी। गैलरी में रखा समान जल कर खाक हो गया। बोपल क्षेत्र के एक फ्लैट में 11वीं मंजिल के मकान की गैलरी में भी रॉकेट के कारण आग लगी। वाटर मॉनिटरिंग सिस्टम से ग्राउंड फ्लोर से 11 मंजिल तक पानी की बौछार कर आग पर काबू पाया गया। घाटलोडिया में सत्ताधार चार रास्ता के पास मेपल ट्री सोसायटी में दूसरी मंजिल पर डॉक्टर के फ्लैट में आग लगी। घर में मौजूद तीन लोगों को बाहर निकाला गया। बाद में आग पर काबू पा लिया गया। इसके अलावा शहर के निकोल, नरोडा, बहेरामपुरा, दाणीलीमडा, वासाा, सरखेज, जुहापुरा, बोपल, ओढव समेत क्षेत्रों में कचरा और गैलरी में आग लगने से अफरातफरी मची रही।

सारंगपुर हनुमान मंदिर के तंबू में लगी आग
बोटाद जिले के सारंगपुर कष्टभंजनदेव हनुमान मंदिर में भी दिवाली की रात आग लगने की घटना हुई। कष्टभंजन हनुमान मंदिर परिसर में बने तंबुओं में आग लगी। बताया गया कि मंदिर में पटाखा जलाने वक्त व्हाइट हाउस बिल्डिंग के पीछे बने तंबुओं में आग लगी। मंदिर के 175 साल पूरा होने पर 16 से 22 नवंबर तक यहां शतामृत महोत्सव मनाया जाएगा। इसी की तैयारी के तहत परिसर में तंबू बनाए गए हैं।

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.