भतीजे अनंत को तिलक और हल्दी लगाकर योगी आदित्यनाथ ने दिया आशीष, अपने बचपन के दिनों को ऐसे किया याद

योगी आदित्यनाथ ने अपने पैतृक गांव की पगडंडियों पर भ्रमण किया। इस दौरान वे ग्रामीणों से भी मिले। उन्होंने गांव के पुराने लोगों का नाम लेकर पुकारा।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के उत्तराखंड दौरे का 4 मई दूसरा दिन था। 4 मई को भी वह अपने गांव पंचूर भतीजे अनंत के मुंडन संस्कार में शामिल हुए और गांव में ही प्रवास पर रहे। सुबह उन्होंने गांव में स्थानीय नागरिकों से मुलाकात कर उनकी कुशल क्षेम पूछी।

योगी आदित्यनाथ ने गांव की पगडंडियों पर भ्रमण किया। इस दौरान वे ग्रामीणों से भी मिले। उन्होंने गांव के पुराने लोगों का नाम लेकर पुकारा। इस दौरान बच्चों में योगी आदित्यनाथ के साथ फोटो खिंचवाने की होड़ लगी रही। उन्होंने किसी को भी निराश नहीं किया। गांव भ्रमण के दौरान वे कई जगह रुके। उन्होंने अपने बचपन की यादों को ताजा किया। योगी ने सभी से मुस्कुरा कर मुलाकात की और अभिवादन स्वीकार किया। भ्रमण के बाद योगी आदित्यनाथ अपने घर भतीजे अनंत के मुंडन संस्कार में सम्मिलित हुए।

3 मई की रात को घर में सत्यनारायण की कथा और केस नूतन का संस्कार संपन्न हुआ, जबकि 4 मई को सुबह बान और मंगल स्नान की रस्म में योगी आदित्यनाथ शामिल हुए। उन्होंने भतीजे अनंत को तिलक और हल्दी लगाकर आशीष दिया। इस दौरान ग्रामीणों और महिलाओं ने नृत्य किया। योगी आदित्यनाथ ने नृत्य और संगीत का बैठकर आनंद लिया।

इसके पश्चात योगी योग गुरु बाबा रामदेव के पोखरी स्थित वेदा लाइफ संस्थान पहुंचे। यहां से वे महागढ़ मंदिर में गए और वहां पूजा-अर्चना की। योगी आदित्यनाथ 4 मई को भी अपने घर ही रुकेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here