Kedarnath Dham के कपाट शीतकाल के लिए बंद, ये हस्तियां भी रहीं मौजूद

मंदिर को विशेष रूप से फूलों से सजाया गया। ढाई हजार से अधिक तीर्थयात्री इसके साक्षी बने। इस दौरान परिसर सेना बैंड की धुनों के साथ जय केदार और ऊं नमः शिवाय (Om Namah Shivay) से गुंजायमान हो गया।

344

बाबा केदारनाथ धाम (Kedarnath Dham) के कपाट भैया दूज (कार्तिक मास शुक्ल पक्ष द्वितीया, वृश्चिक राशि, ज्येष्ठा नक्षत्र के शुभ मुहूर्त ) पर आज (बुधवार) प्रात: साढ़े आठ बजे विधि- विधान से शीतकाल के लिए बंद (closed for winter) हो गए। मंदिर को विशेष रूप से फूलों से सजाया गया। ढाई हजार से अधिक तीर्थयात्री इसके साक्षी बने। इस दौरान परिसर सेना बैंड की धुनों के साथ जय केदार और ऊं नमः शिवाय (Om Namah Shivay) से गुंजायमान हो गया। इस मौके पर मौसम साफ रहा। आजकल केदारनाथ क्षेत्र आधा बर्फ की चादर ओढ़े है।

सबसे पहले ब्रह्म मुहूर्त में कपाट खुले। इसके बाद पूजा- अर्चना और दर्शन के तत्पश्चात कपाट बंद होने की प्रक्रिया के तहत स्वयंभू शिवलिंग से शृंगारअलग कर रावल भीमाशंकर लिंग की उपस्थिति में पुजारी शिवलिंग ने स्थानीय शुष्क पुष्पों, ब्रह्म कमल, कुमजा,राख से समाधि रूप दिया। इस दौरान बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति अध्यक्ष अजेंद्र अजय, मुख्य कार्याधिकारी योगेन्द्र सिंह और तीर्थ पुरोहित समाज के पदाधिकारी मौजूद रहे।

तीर्थयात्रियों के लिए भंडारे का आयोजन
ठीक साढ़े छह बजे गर्भ गृह में समाधि पूजा का समापन किया गया। इसके बाद मंदिर के अंदर सभामंडप में स्थित छोटे मंदिरों को भी बंद किया गया । ठीक साढ़े आठ बजे केदारनाथ मंदिर के दक्षिण द्वार को बंद कर दिया गया। उसके तुरंत बाद पूरब द्वार को भी बंद किया गया। इस अवसर पर भारतीय सेना, आईटीबीपी और दानी-दाताओं ने तीर्थयात्रियों के लिए भंडारे का आयोजन किया। कपाट बंद होने के बाद भगवान केदारनाथ की पंचमुखी डोली हजारों तीर्थयात्रियों के साथ सेना के बैंड बाजों के साथ पैदल प्रथम पड़ाव रामपुर के लिए प्रस्थान कर गई।

असम के सीएम हिमंता बिस्व शर्मा भी रहे मौजूद
बदरीनाथ- केदारनाथ मंदिर समिति (बीकेटीसी) अध्यक्ष अजेंद्र अजय मंगलवार को केदारनाथ पहुंच गए थे। आज उनके साथ असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्व शर्मा की पत्नी रिनिकी भुयान शर्मा और परिजन मौजूद रहे। यह सभी कपाट बंद होने के अवसर पर अजेंद्र अजय ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रेरणा और मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के मार्गदर्शन में केदारनाथ यात्रा का सफलतापूर्वक समापन हो रहा है।

बीकेटीसी मुख्य कार्याधिकारी योगेन्द्र सिंह ने बताया कि कपाट खुलने की तिथि से मंगलवार रात्रि तक 19,57,850 तीर्थयात्रियों ने दर्शन किये। बीकेटीसी मीडिया प्रभारी डॉ. हरीश गौड़ ने बताया कि आज केदारनाथ भगवान की पंचमुखी डोली पहले पड़ाव रामपुर पहुंचेगी। 16 नवंबर को डोली गुप्तकाशी और 17 नवंबर को शीतकालीन पूजा स्थल ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ पहुंचेगी। इसके पश्चात शीतकालीन पूजास्थल ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ में केदारनाथ भगवान की शीतकालीन पूजा शुरू हो जायेगी।

यह भी पढ़ें – शीतल ने लगाई दुनिया की श्रेष्ठ छलांग, पद्मश्री से भी हो चुकी हैं सम्मानित

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.