स्वातंत्र्यवीर सावरकर स्मृति स्वर्ण पदक 2021 से रत्नागिरी की छात्रा प्रियंका पेंढारी सम्मानित

स्वातंत्र्यवीर सावरकर स्मृति स्वर्ण पदक विज्ञान के अध्ययन को प्रोत्साहित करने के लिए दिया जाता है। इस पुरस्कार की शुरुवात 2010 में स्वातंत्र्यवीर सावरकर राष्ट्रीय स्मारक के तत्कालीन अध्यक्ष प्रा. सुधाकर राव देशपांडे द्वारा कराई गई थी। जिसके अंतर्गत मुंबई विश्वविद्यालय, पुणे विश्वविद्यालय और नागपुर विश्वविद्यालय के छात्रों को मराठी भाषा, विज्ञान और इतिहास में प्रथम आनेपर सम्मानित किया जाता है।

मुंबई विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह सभागृह में वर्ष 2021 का दीक्षांत समारोह संपन्न हुआ। इस कार्यक्रम का वेबकास्ट भी किया गया। वर्ष 2021 का स्वातंत्र्यवीर सावरकर स्मृति स्वर्ण पदक रत्नागिरी की छात्रा को विज्ञान में प्रथम क्रमांक प्राप्त करने के लिए दिया गया।

स्वातंत्र्यवीर सावरकर ज्ञान, विज्ञान और अनुसंधान के सदा प्रशंसक और प्रेरक रहे। उन्होंने हमेशा विज्ञान निष्ठ धर्म को मान्यता दी थी। उनके इस मत का सम्मान करते हुए मुंबई विश्वविद्यालय में प्रतिवर्ष स्वातंत्र्यवीर सावरकर स्मृति स्वर्ण पदक से उन छात्रों को सम्मानित किया जाता है, जो विज्ञान में प्रथम क्रमांक प्राप्त करते हैं। इस वर्ष मुंबई विश्वविद्यालय के रत्नागिरी उप केंद्र की छात्रा प्रियंका पेंढारी को विज्ञान विषय में सर्वोत्कृष्ट अंक प्राप्त करने के लिए सम्मानित किया गया। इस पुरस्कार से सम्मानित होनेवाली प्रियंका पेंढारी ने कहा कि स्वातंत्र्यवीर सावरकर के स्वभाव में जो जिद थी, वह स्वभाव उन्होंने अपनाया और उसका परिणाम सामने है।

ये भी पढ़ें – सावरकर निष्ठा विजयी: स्वातंत्र्यवीर सावरकर राष्ट्रीय स्मारक के अध्यक्ष पद पर प्रवीण दीक्षित

इस कार्यक्रम में राज्यपाल और विश्वविद्यालयों के कुलपति भगत सिंह कोश्यारी, पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे, कुलगुरू सुहास पेडणेकर समेत विश्वविद्यालयों के अधिकारी और शिक्षाविद उपस्थित थे। दीक्षांत समारोह में राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी बार-बार महाराष्ट्र के युवा मंत्री आदित्य ठाकरे को प्रोत्साहित करते दिखे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here