सावन में टूटा रिकॉर्ड, काशी विश्वनाथ धाम पहुंचे एक करोड़ श्रद्धालु, पांच करोड़ का चढ़ा चढ़ावा

सावन माह में सभी रिकॉर्ड टूट गये हैं। इस पवित्र महीने में प्रतिदिन औसतन तीन लाख से अधिक श्रद्धालु मंदिर में बाबा का जलाभिषेक करने पहुंचे।

श्रीकाशी विश्वनाथ धाम ने इस बार के सावन में अपने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिये हैं। पूरे सावन माह में जहां एक करोड़ से अधिक श्रद्धालुओं ने धाम में दर्शन पूजन किया, वहीं पांच करोड़ से अधिक का चढ़ावा भी मंदिर में चढ़ाया गया है।

यूपी धर्मार्थ कार्य निदेशालय के निदेशक एवं वाराणसी मंडल के कमिश्नर दीपक अग्रवाल के अनुसार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा बीते दिसंबर माह में इस ऐतिहासिक धाम को राष्ट्र को समर्पित कर दिया गया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद धाम की मॉनिटिरिंग समय-समय पर करते हैं। सरकार का जोर धाम आने वाले श्रद्धालुओं को बेहतर सुविधाएं देने पर है। इसी का परिणाम है कि श्रद्धालु बड़ी संख्या में काशी पहुंच रहे हैं।

उन्होंने बताया कि धाम बनने के बाद सामान्य दिनों में श्रीकाशी विश्वनाथ धाम में डेढ़ से दो लाख दर्शनार्थी दर्शन करने पहुंच रहे थे। वहीं सावन माह में सभी रिकॉर्ड टूट गये हैं। इस पवित्र महीने में प्रतिदिन औसतन तीन लाख से अधिक श्रद्धालु मंदिर में बाबा का जलाभिषेक करने पहुंचे। पूरे माह का अगर आंकड़ा देखा जाए तो यह एक करोड़ के पार हो गया है। सावन के सोमवार की बात करें तो पहले सोमवार को 5.5 लाख, दूसरे सोमवार को छह लाख, तीसरे सोमवार को 7.10 लाख और चौथे सोमवार को 7.20 लाख श्रद्धालुओं ने बाबा के दरबार में माथा टेका है। श्रीकाशी विश्वनाथ मंदिर के सभी चारों गेट पर लगे हेड काउंटिंग मशीन के जरिये श्रद्धालुओं की गिनती की गयी। इसी के आधार पर ये आंकड़े जारी किये गये हैं।

ये भी पढ़ें – अब कौन सा षड्यंत्र? रायगढ़ समुद्र में नाव से निकले हथियार, हाई अलर्ट पर राज्य

बाबा दरबार में चढ़ावे की बात करें तो विभिन्न साधनों जैसे मनी ऑर्डर, दानपात्र, ऑनलाइन और ऑफलाइन इन सबको मिलाकर लगभग पांच करोड़ का चढ़ावा मंदिर में आया है। दीपक अग्रवाल के अनुसार इस बार सोने-चांदी की बात की जाए तो लगभग 40 किलो से ज्यादा चांदी का चढ़ावा मंदिर में आया है। वहीं एक करोड़ से अधिक का सोना भी बाबा के दरबार में श्रद्धालुओं द्वारा दान दिया गया है।

श्रद्धालुओं की सुविधाओं का विशेष ध्यान
दीपक अग्रवाल ने बताया कि इस बार सावन में श्रद्धालुओं की सुविधाओं का भी विशेष ध्यान रखा गया था। टेंट, मैटिंग, पेयजल, ग्रिल, बिजली कूलर सहित अन्य संसाधनों की भी पर्याप्त व्यवस्था की गई थी, ताकि किसी भी श्रद्धालु को किसी प्रकार की असुविधा ना हो। इस व्यवस्था को करने में मंदिर प्रशासन ने लगभग डेढ़ से दो करोड़ रुपये खर्च किए।

विंध्याचल मंदिर में भी बढ़े श्रद्धालु
अग्रवाल ने बताया कि श्रीकाशी विश्वनाथ धाम बनने के बाद इसके आसपास के इलाकों में स्थित मंदिरों में भी भक्तों के पहुंचने का सिलसिला बढ़ा है। वाराणसी के अन्य प्रमुख मंदिरों के अलावा विंध्याचल मंदिर में भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचे हैं।

शिवभक्तों के कारण अर्थव्यवस्था को भी मिलेगा बल
अधिकारी की मानें तो श्रीकाशी विश्वनाथ धाम पहुंचने वाले शिवभक्तों के कारण वाराणसी और आसपास के इलाके में पर्यटन उद्योग को भी गति मिली है। पूरे सावन माह में वाराणसी के सभी होटल, गेस्ट हाउस, लॉज पूरी तरह से बुक रहे। साथ ही स्थानीय शिल्प और बनारसी साड़ी उद्योग को भी फायदा हुआ है। सिर्फ इतना ही नहीं स्ट्रीट वेंडर्स ने भी अच्छी कमाई की है। इन सबका असर सरकार के राजस्व पर जीएसटी कलेक्शन के रूप में तो दिखायी देगा ही, नि:संदेह इससे प्रदेश की अर्थव्यवस्था भी मजबूत होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here