महाराष्ट्र में फिर डराने लगा कोरोना, एक दिन में मिले इतने मरीज

मानसून से पहले ही कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए बीएमसी अलर्ट हो गया है। मुंबई मनपा ने निजी अस्पतालों को अलर्ट जारी किया है।

महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमितों की संख्या बढने से मुंबई महानगरपालिका प्रशासन सतर्क हो गया है। राज्य में 1 जून को 1081 कोरोना संक्रमित मिले हैं, इनमें अकेले मुंबई में 739 कोरोना मरीजों की पहचान की गई है।

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार राज्य में 1 जून को कुल 1081 नए मामले सामने आए हैं। राज्यभर में 1 जून कुल 4032 एक्टिव मरीजों का इलाज जारी है और 1 जून 524 मरीज ठीक होकर घर लौट चुके हैं। साथ ही राज्य में कोरोना से किसी की मौत की खबर नहीं है। राज्य में कोरोना मृत्यु दर 1.87 प्रतिशत है। अब तक कुल 77,36,275 कोरोना संक्रमित पूरी तरह ठीक होकर घर लौट चुके हैं। राज्य में मरीजों के ठीक होने की दर 98.07 फीसदी है।

एक दिन में मिले इतने मरीज
मुंबई महानगरपालिका की ओर से दिए गए आंकड़ों के अनुसार पिछले 24 घंटे में 739 संक्रमित मरीज मिले है और 295 मरीज ठीक हुए हैं। मुंबई में अब तक कुल 1044005 मरीज ठीक हो चुके हैं। ठीक होने की दर 98 प्रतिशत है। मुंबई में कुल एक्टिव मरीजों की संख्या 2970 है। 25 मई से 31 मई के बीच कोरोना की वृद्धि दर 0.033 प्रतिशत रही।

बैठक में लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय
मानसून से पहले ही कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए बीएमसी अलर्ट हो गया है। मुंबई मनपा ने निजी अस्पतालों को अलर्ट जारी किया है। जंबो कोविड सेंटर बनाने की भी योजना है। मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए मुंबई नगर निगम के आयुक्त इकबाल चहल और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बीच महत्वपूर्ण बैठक आयोजित की गई थी। इस बैठक में मुख्यमंत्री ने मुंबई में कोरोना जांच बढ़ाए जाने, 12 से 18 साल के बच्चों का टीकाकरण बढ़ाए जाने, बूस्टर खुराक की संख्या बढ़ाए जाने, जंबो कोविड सेंटर को फिर से सुसज्जित किया जाने, मलाड के जंबो कोविड सेंटर को फिर से शुरु करने, वार्ड वार रूम एक बार फिर सक्रिय किए जाने के साथ निजी अस्पतालों को भी अलर्ट पर रखने का आदेश जारी किया गया है।

संबंधित विभागों को आवश्यक निर्देश
मानसून के मद्देनजर हर अस्पताल का आकलन आपातकालीन तैयारियों के लिए किया जाएगा। टास्क फोर्स की ओर से अगली सूचना मिलने तक मास्क पर अभी कोई फैसला नहीं हुआ है। वार्ड सपोर्ट रूम को वार्ड की सपोर्ट कमेटी इंचार्ज द्वारा फिर से खोला जाना चाहिए ताकि उसे स्टाफ, मेडिकल टीम और एम्बुलेंस से लैस करने का निर्देश दिया जाए। अगर अगले कुछ दिनों में अस्पताल में भर्ती बढ़े तो मलाड जंबो को प्राथमिकता के साथ शुरू किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here