अब भगोड़े मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण पर न्यायालय ने दी दखल!

पीएनबी घोटाले के आरोपी हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी का भारत में जांच एजेंसियां बेसब्री से इंतजार कर रही हैं। लेकिन उसके प्रत्यर्पण को लेकर पेंच एक बार फिर फंसता नजर आ रहा है।

पीएनबी घोटाले के आरोपी भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण के प्रयास में लगे भारत को लगातार झटके लग रहे हैं। फिलहाल उसकी कोशिशें नाकाम साबित होती दिख रही हैं। उसके प्रत्यर्पण पर डोमिनिकाई न्यायालय ने रोक लगा दी है। यह दावा चोकसी के वकील ने किया है।

चोकसी के वकील ने डोमिनिका में बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर की है। इस याचिका में कहा गया है कि मेहुल चोकसी को कानूनी अधिकारों से वंचित कर दिया गया था और उसे शुरू में अपने वकीलों से मिलने की अनुमति नहीं दी गई थी। इस मामले में आगे भी सुनवाई जारी रहेगी।

भारत की कोशिशों पर फिरा पानी
पंजाब नेशनल बैंक घोटाले के आरोपी और भगोड़े हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी को प्रत्यर्पित किए जाने की उम्मीद लगाए भाारत को लगातार झटके लग रहे हैं। उसके प्रत्यर्पण पर अब डोमिनिकाई न्यायालय ने रोक लगा दी है। इससे पहले भी डोमिनिका ने कहा था कि वह अपने देश में पकड़े गए मेहुल चोकसी को एंटीगुआ को सौंपेगा, जहां का वह नागरिक है। जबकि एक दिन पहले एंटीगुआ के प्रधानमंत्री ने कहा था कि उनका देश चोकसी को वापस नहीं लेगा और उसे सीधे भारत भेज दिया जाए।

ये भी पढ़ेंः भगोड़ा शराब कारोबारी विजय माल्या को लाया जाएगा भारत? जानने के लिए पढ़ें ये खबर

23 मई को गिरफ्तार
भगोड़ा हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी डोमिनिका में गिरफ्तार किया गया है। पंजाब नेशनल बैंक घोटाले में आरोपी और भगोड़ा घोषित मेहुल चोकसी एंटीगुआ से लापता हो गया था। 23 मई से ही एंटीगुआ पुलिस उसकी छानबीन में जुटी थी। माना जा रहा था कि वह एंटीगुआ से क्यूबा चला गया है। इस बीच एंटीगुआ के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउनी ने संकेत दिया था कि उसे सीधा भारत भेजा सकता है। लेकिन अब डोमिनिका ने कहा है कि वह अपने देश में पकड़े गए मेहुल चोकसी को एंटीगुआ को सौंपेगा, जहां का वह नागरिक है।

प्रधानमंत्री ने कही थी ये बात
बता दें कि इंटरपोल ने उसकी गिरफ्तारी के लिए येलो नोटिस जारी कर रखा है और भारत उसके प्रत्यर्पण का प्रयास कर रहा है। दूसरी ओर एंटीगुआ के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउनी न भी इशारा किया था कि उसे सीधा भारत भेजा सकता है। उन्होंने कहा था कि हमने डोमिनिका से कहा है कि वह गैरकानूनी रुप से डोमिनिका में प्रवेश करने को लेकर चोकसी पर कार्रवाई करे और हमें सौंपने के बदले, सीधे भारत को प्रत्यर्पित करे। फिलहाल मेहुल चोकसी डोमिनिका पुलिस की हिरासत में है।

ये भी पढ़ेंः डोमिनिका में पकड़ा गया भगोड़ा हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी!

समुद्र में दस्तावेज नष्ट कर रहा था चोकसी
मेहुल चोकसी को 26 मई को नॉर्थ डोमिनिका के ऐसे इलाके से पकड़ा गया, जहां एक भी एयरपोर्ट नहीं है। माना जा रहा है कि उसने नाव से ही डोमिनिका में प्रवेश किया। स्थानीय पुलिस ने बताया है कि चोकसी को डोमिनिका की राजधानी रोज और कैनफील्ड बीच पर देखा गया था। उस दौरान वह समुद्र में कुछ दस्तावेज को बहा रहा था। उसके संदिग्ध गतिविधियों को देखकर पुलिस को शक हुआ और उसने उससे पूछताछ शुरू कर दी। इस पूछताछ से वो घबरा गया और उसने जवाब देने से इनकार कर दिया।

खास बातें

  • पीएनबी घोटाले के तहत चोकसी के भांजे नीरव मोदी और मेहुल चोकसी पर 13 हजार करोड़ रुपए के गबन का आरोप है। यह मामला 2018 की शुरुआत में सामने आया था।
  • इस घोटाले में हीरा व्यापारी नीरव मोदी के साथ ही उसकी पत्नी ऐमी, भाई निशाल और उसका मामा मेहुल चोकसी मुख्य अभियुक्त हैं।
  • मेहुल चोकसी को 15 जनवरी 2018 को एंटीगुआ और बारबुडा की नागरिकता मिल गई थी।
  • 17 जून को चोकसी ने बॉम्बे हाई कोर्ट में हलफनामा दायर कर पीएनबी घोटाल में सहयोग करने की इच्छा जताई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here