मेट्रो लाइन-3 परियोजना को लेकर मुख्यमंत्री शिंदे ने किया ये दावा

उपमुख्यमंत्री फडणवीस ने कहा कि मुंबई मेट्रो 3 मुंबई की महत्वपूर्ण जीवन रेखा बनने जा रही है। इस परियोजना का एक महत्वपूर्ण परीक्षण सफलतापूर्वक पूरा कर लिया गया है।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा कि मेट्रो लाइन-3 परियोजना सार्वजनिक परिवहन की सुविधा प्रदान करने के साथ ही पर्यावरण के संतुलन को बनाए रखने में मदद करेगी। यह परियोजना मुंबई के लोगों के लिए एक नई जीवन रेखा बनेगी, राज्य सरकार बुनियादी ढांचे को प्राथमिकता दे रही है।

मुंबई मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन की कोलाबा-बांद्रे-सिप्ज़ कॉरिडोर मुंबई मेट्रो लाइन 3 के पहले भूमिगत ट्रेन परीक्षण का उद्घाटन मंगलवार को मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने सारिपुट नगर, आरे कॉलोनी में किया। उन्होंने कहा कि आम जनता के हितों को ध्यान में रखते हुए प्रदेश को आगे ले जाने वाले कार्यों को राज्य सरकार प्राथमिकता दे रही है। मेट्रो 3 के पूरा होने के बाद करीब 17 लाख यात्री यात्रा कर सकेंगे और इससे सड़क पर निजी वाहनों की संख्या में करीब सात लाख की कमी आएगी। इससे यातायात की भीड़भाड़ को कम करने के साथ ही वायु और ध्वनि प्रदूषण भी कम होगा। यह पर्यावरण के संतुलन को बनाए रखने में भी मदद करेगा।

बालासाहेब ठाकरे समृद्धि राजमार्ग भी सरकार की एक महत्वाकांक्षी परियोजना
मुख्यमंत्री ने कहा कि बालासाहेब ठाकरे समृद्धि राजमार्ग भी सरकार की एक महत्वाकांक्षी परियोजना है। इस परियोजना से नागपुर से मुंबई तक कई जिलों को लाभ होगा और इस मार्ग के पहले चरण का उद्घाटन जल्द ही नागपुर शिर्डी में किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने विश्वास व्यक्त किया कि जनहित की हर परियोजना के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राज्य सरकार के साथ हैं। राज्य और केंद्र सरकार विभिन्न महत्वपूर्ण परियोजनाओं को तेजी से पूरा करेगी। उन्होंने यह भी कहा कि जिस राज्य में सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था अच्छी है, वहां के नागरिक इसका उपयोग विकल्प के रूप में करते हैं, सड़क पर निजी यातायात कम हो जाता है।

सफल परीक्षण संपन्न
उपमुख्यमंत्री फडणवीस ने कहा कि मुंबई मेट्रो 3 मुंबई की महत्वपूर्ण जीवन रेखा बनने जा रही है। इस परियोजना का एक महत्वपूर्ण परीक्षण सफलतापूर्वक पूरा कर लिया गया है। इस मेट्रो परियोजना का पहला चरण दिसंबर 2023 तक पूरा हो जाएगा। चूंकि इस मेट्रो से सड़क पर निजी यातायात कम होगा, कार्बन उत्सर्जन में लगभग 2.30 लाख टन की कमी आएगी। ग्रीन आर्बिट्रेटर और सुप्रीम कोर्ट ने सभी पक्षों से सलाह मशविरा कर इस प्रोजेक्ट को अनुमति दी है, इसलिए सरकार ने जो फैसला लिया है, वह मुंबई के फायदे के लिए पर्यावरण पर विचार करने के बाद ही लेना जरूरी था। उन्होंने कहा कि इस मेट्रो लाइन से मुंबई के यात्रियों को काफी फायदा होगा, इस परियोजना के पूरा होने के बाद संतुष्टि मिलेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here