महाराष्ट्र में आग ही आग! ठाणे के बाद रत्नागिरी में अग्नितांडव

28 अप्रैल को महाराष्ट्र के रत्नागिरी के एमआईडीसी में एक दवा कंपनी एमआर फार्मा में आग लग गई। आग लगने के बाद कंपनी में अफरातफरी मच गई और कर्मचारी कंपनी से निकलकर सड़क पर भागने लगे।

पिछले करीब एक महीने से महाराष्ट्र में आग लगने की घटनाएं काफी बढ़ गई हैं। 28 अप्रैल को रत्नागिरी के एमआईडीसी में एक दवा कंपनी एमआर फार्मा में आग लग गई। आग लगने के बाद कंपनी में अफरातफरी मच गई और कर्मचारी कंपनी से निकलकर सड़क पर भागने लगे। हालांकि इस आग में कोई हतातहत नहीं हुआ है।

बड़े पैमाने पर नुकसान होने की आशंका
मिली जानकारी के अनुसार दमकल विभाग के कर्मचारियों ने कड़ी मशक्कत के बाद आग पर नियंत्रण पा लिया। इस अग्निकांड में बड़े पैमाने पर नुकसान होने की आशंका है। हालांकि अभी तक कंपनी की ओर से इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई है। आग लगने के कारणों के बारे में अभी तक कोई आधिकारिक जानकारी नहीं दी गई है, लेकिन समझा जा रहा है कि शॉर्ट सर्किट के कारण यह घटना घटी है।

ये भी पढ़ेंः अग्नितांडव! एक और अस्पताल भस्म, गई चार रुग्ण की जान

ठाणे के अस्पताल में आग लगने से चार रोगियों की मौत
बता दें कि महाराष्ट्र के ठाणे शहर के मुंब्रा स्थित अस्पताल में 28 अप्रैल को प्रभात काल के 3 बजकर 40 मिनट पर आग लग गई थी। इस आग में मेसर्स प्राइम क्रिटिकेयर हॉस्पिटल में भर्ती चार मरीजों की अन्य अस्पताल में स्थानांतरित करते समय मृत्यु हो गई। अस्पताल में कुल 20 रोगी भर्ती थे, इसमें 6 रोगी अतिदक्षता विभाग में भर्ती थे। यह अस्पताल निवासी इमारत के पहले मजले पर स्थित था। इस इमारत का नाम हसन था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here