लुधियाना धमाका: संदेह के दायरे में वह पूर्व पुलिसवाला, सुरक्षा एजेंसियों ने जब्त किये कंप्यूटर दस्तावेज

लुधियाना जिला न्यायालय में धमाके को लेकर बड़ी खबर है। इस धमाके में 2 की मौत और 4 लोग घायल थे।

लुधियाना जिला न्यायालय परिसर में हुए ब्लास्ट में मारे गए शख्स की पहचान हो चुकी है। शख्स की पहचान पंजाब पुलिस के बर्खास्त हेड कांस्टेबल गगनदीप सिंह के रूप में हुई है। सुरक्षा एजेंसियों की जांच के मुख्य केंद्र में अब गगनदीप है। जिसके घर पर भी तलाशी ली गई है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार गगनदीप के घर से लैपटॉप और दस्तावेज जब्त किये गए हैं। इसके साथ ही पंजाब पुलिस और एनआईए गगनदीप के भाई को पूछताछ के लिए ले गई थी। लुधियाना विस्फोट मामले की जांच केंद्रीय व राज्य की सुरक्षा एजेंसियां कर रही हैं। सुबह ही लुधियाना के पुलिस कमिश्नर गुरप्रीत सिंह भुल्लर ने दावा किया था कि इस मामले में पुलिस के हाथ बड़ा सुराग लगा है।

ये भी पढ़ें – मिग 21 दुर्घटनाग्रस्त, देश ने खोया एक पायलट

बर्खास्त कांस्टेबल पर शंका
खन्ना के लल्हेरी रोड स्थित प्रोफेसर कॉलोनी निवासी 30 वर्षीय गगनदीप सिंह को एसटीएफ ने मादक पदार्थों की तस्करी के आरोप में गिरफ्तार किया था। वह सदर थाने में मुंशी के पद पर तैनात था। उसे 2019 में निकाल दिया गया और दो साल उसने जेल में बिताए। उसे सितंबर में रिहा किया गया था। हालांकि पुलिस ने अभी इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं की है, लेकिन पुलिस उसके खन्ना स्थित निवास में पहुंची और जांच पड़ताल की।

इधर, शुक्रवार को लुधियाना पहुंचे केंद्रीय कानून मंत्री किरण रिजिजू ने पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि उनकी मुख्यमंत्री से बातचीत हुई है। सेंट्रल और स्टेट एजेंसी मिलकर काम करेंगी। उन्होंने कहा कि जांच एजेंसियां अपना काम कर रही हैं। बहुत जल्द एजेंसियां नतीजे पर पहुंचेंगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here