बाहुबली को खतरा कम… आईसीएमआर सिरो सर्वे की ये हैं मुख्य बातें

चौथे सिरो सर्वे के अनुसार देश के 40 करोड़ लोगों पर अब भी कोविड-19 का खतरा मंडरा रहा है।

इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने चौथा सिरो सर्वे जारी किया है। इसके अनुसार कोविड-19 टीके की दोनों डोज लेनेवाले 89.8 प्रतिशत व्यक्तियों में एंटी बॉडी पाई गई हैं। जबकि, एक डोज लेनेवाले 81 प्रतिशत लोगों में एंटी बॉडी मिले हैं। यानी अपने बाहु पर दोनों डोज लेनेवाले बाहुबली निकले।

इस सर्वे में 28,975 व्यक्तियों को सम्मिलित किया गया था। जिसमें से 67 प्रतिशत लोगों में कोविड-19 के एंटी बॉडिज मिले थे। इसमें 6 वर्ष की आयु के ऊपर के लोग शामिल हैं।

ये भी पढ़ें – पीएम के ‘मन की बात’ कार्यक्रम से हुई इतने करोड़ की कमाई!

  • 6 से 9 साल के 2,892
  • 10 से 17 साल के 5,799
  • 18 वर्ष से ऊपर 20,284 के लोग थे।

आईसीएमआर के महानिदेशक डॉ.बलराम भार्गव ने बताया कि सिरो सर्वे के अनुसार दो तिहाई जनसंख्या में सार्स-सीओवी-2 के एंटी बॉडी मिले हैं।

इन आंकड़ों के अनुसार 40 करोड़ लोगों पर अभी कोविड-19 का खतरा है

6 से 17 साल के आधे से अधिक बच्चों में मिले एंटी बॉडी

सर्वे की अन्य बातें

  • 6 से 9 वर्ष के 57.2 प्रतिशत बच्चों में मिली एंटी बॉडी
  • 10 से 17 वर्ष के 61.6 प्रतिशत किशोरों में मिली एंटी बॉडी
  • 18 से 44 वर्ष के 66.7 प्रतिशत किशोरों में मिली एंटी बॉडी
  • 45 से 60 वर्ष के 77.6 प्रतिशत लोगों में मिली एंटी बॉडी
  • 60 वर्ष के ऊपर से 76.7 प्रतिशत लोगों मिली एंटी बॉडी
  • 69.2 प्रतिशत महिलाओं में मिली एंटी बॉडी
  • 65.8 प्रतिशत पुरुषों में मिली एंटी बॉडी
  • शहरी क्षेत्र में रहनेवाले 69.6 प्रतिशत लोगों में मिली एंटी बॉडी
  • ग्रामीण क्षेत्र में रहने वाले 66.7 प्रतिशत लोगों में मिली एंटी बॉडी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here