Chardham Yatra: अक्षय तृतीया के पावन अवसर पर खुले केदारनाथ धाम के कपाट, चार धाम यात्रा शुरू

अक्षय तृतीया के पावन अवसर पर चार धाम यात्रा शुरू हो गई। केदारनाथ धाम के कपाट शुक्रवार को खुल गए।

339

छह महीने तक बंद रहने के बाद शुक्रवार (10 मई) को अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) के अवसर पर केदारनाथ (Kedarnath) और यमुनोत्री (Yamunotri) के कपाट श्रद्धालुओं (Devotees) के लिए खोल दिए गए और इसके साथ ही इस साल की चार धाम यात्रा (Char Dham Yatra) शुरू हो गई। दोनों धामों के कपाट सुबह सात बजे खुले और इस दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजूद रहे। बद्रीनाथ धाम (Badrinath Dham) के कपाट दो दिन बाद 12 मई को खोले जाएंगे। यात्रा के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन 15 अप्रैल से शुरू हो गया था।

रिपोर्ट के अनुसार, अब तक कुल 21.58 लाख श्रद्धालुओं ने ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराया है। हिंदू धर्म में चारधाम यात्रा को बहुत धार्मिक महत्व दिया जाता है। शास्त्रों के अनुसार, चारधाम के दर्शन से सभी पाप नष्ट हो जाते हैं और जन्म-मरण के चक्र से मुक्ति मिलती है। ऐसे व्यक्ति को दोबारा नश्वर संसार में जन्म नहीं लेना पड़ता, उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है।

यह भी पढ़ें- Abbas Ansari: मनी लॉन्ड्रिंग मामले में अब्बास अंसारी को बड़ा झटका, कोर्ट ने खारिज की जमानत याचिका

शिव पुराण के अनुसार, केदारनाथ ज्योतिर्लिंग के दर्शन और पूजा के बाद जो व्यक्ति जल ग्रहण करता है, उसका धरती पर पुनर्जन्म नहीं होता। केदारनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री धाम को फूलों से सजाया गया है। मंदिर की खूबसूरती देखने लायक है। केदारनाथ मंदिर को 20 क्विंटल से ज्यादा फूलों से सजाया गया है। इस समय श्रद्धालु आस्था पथ से धाम में दर्शन के लिए जाएंगे। पथ पर बैठने के लिए बेंचों की व्यवस्था की गई है। साथ ही बारिश और बर्फबारी से बचाव के लिए रेन शेल्टर का निर्माण किया गया है।

केदारनाथ मंदिर का मुख्य द्वार श्रद्धालुओं के लिए खुला
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी भी अपनी पत्नी गीता के साथ केदारनाथ में कपाट खुलने की प्रक्रिया के साक्षी बने। बम-बम भोले और बाबा केदार की जय के उद्घोष के साथ सुबह सात बजे विशेष पूजा-अर्चना के बाद वैदिक मंत्रोच्चार के बीच केदारनाथ मंदिर के मुख्य द्वार श्रद्धालुओं के लिए खोल दिए गए।

देखें यह वीडियो- 

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.