Dilwara Temple: जैन वास्तुकला का एक रत्न दिलवाड़ा मंदिर के बारे में जानें ये 10 रोचक फैक्ट

11वीं और 13वीं शताब्दी के बीच निर्मित ये मंदिर अपनी शानदार वास्तुकला, जटिल संगमरमर की नक्काशी और समृद्ध जैन प्रतिमाओं के लिए प्रसिद्ध हैं।

87

Dilwara Temple: राजस्थान में माउंट आबू के पास स्थित दिलवाड़ा मंदिर प्राचीन भारत की उत्कृष्ट शिल्पकला और आध्यात्मिक भक्ति का एक प्रमाण है। 11वीं और 13वीं शताब्दी के बीच निर्मित ये मंदिर अपनी शानदार वास्तुकला, जटिल संगमरमर की नक्काशी और समृद्ध जैन प्रतिमाओं के लिए प्रसिद्ध हैं। यहाँ दस रोचक तथ्य दिए गए हैं जो दिलवाड़ा मंदिर के सांस्कृतिक और ऐतिहासिक महत्व को उजागर करते हैं:

यह भी पढ़ें- Bihar: अब इन शहरों में चलेगी मेट्रो, नीतीश कैबिनेट ने दी मंजूरी

यहां दिलवाड़ा मंदिर के बारे में पढ़ें 10 रोचक फैक्ट:

  1. वास्तुकला का चमत्कार (Architectural Marvel)
    दिलवाड़ा मंदिर अपनी अद्वितीय वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध है, जिसकी विशेषता जटिल संगमरमर की नक्काशी है जो इसकी संरचना के हर इंच को सुशोभित करती है। मंदिर प्राचीन स्थापत्य शैली और तकनीकों का मिश्रण हैं जो सोलंकी वंश के कारीगरों के शिल्प कौशल को प्रदर्शित करते हैं।
  2. पाँच आश्चर्यजनक मंदिर (Five Stunning Temples)
    इस परिसर में पाँच मंदिर हैं, जिनमें से प्रत्येक एक अलग जैन तीर्थंकर (आध्यात्मिक शिक्षक) को समर्पित है। इन मंदिरों के नाम उन गांवों के नाम पर रखे गए हैं जिनमें वे स्थित हैं: विमल वसाही, लूना वसाही, पित्तलहर मंदिर, पार्श्वनाथ मंदिर और महावीर स्वामी मंदिर।
  3. विमल वसाही (Vimal Vasahi)
    सबसे प्रसिद्ध में से एक विमल वसाही मंदिर है, जो पहले तीर्थंकर आदिनाथ को समर्पित है। सोलंकी राजवंश के मंत्री विमल शाह द्वारा 1031 ईस्वी में निर्मित, यह अपनी नाजुक वास्तुकला और संगमरमर से बनी आदिनाथ की छवि के लिए प्रसिद्ध है।
  4. लूना वसाही (Luna Vasahi)
    राजा विरधवल के मंत्री वाग्भट्ट द्वारा 1230 ईस्वी में निर्मित, लूना वसाही मंदिर 22वें तीर्थंकर नेमिनाथ को समर्पित है। यह अपने उत्कृष्ट संगमरमर के काम के लिए प्रसिद्ध है, जिसमें बारीक नक्काशीदार छत, द्वार और पैनल शामिल हैं।
  5. पित्तलहर मंदिर (Pittalhar Temple)
    यह मंदिर 23वें तीर्थंकर पार्श्वनाथ की मूर्ति के लिए प्रसिद्ध है, जो पाँच धातुओं (पंचलोहा) से बनी है। मूर्ति अपनी असाधारण शिल्पकला और सौंदर्य अपील के लिए जानी जाती है।
  6. गारे का उपयोग नहीं (No Use of Mortar)
    दिलवाड़ा मंदिर की उल्लेखनीय वास्तुकला विशेषताओं में से एक यह है कि इसके निर्माण में किसी गारे का उपयोग नहीं किया गया था। पूरे मंदिर परिसर का निर्माण इंटरलॉकिंग संगमरमर के टुकड़ों का उपयोग करके किया गया था, एक ऐसी तकनीक जो एक सहस्राब्दी से अधिक समय से समय की कसौटी पर खरी उतरी है।
  7. जटिल संगमरमर की नक्काशी (Intricate Marble Carvings)
    मंदिर जैन पौराणिक कथाओं, खगोलीय प्राणियों, फूलों और ज्यामितीय पैटर्न के दृश्यों को दर्शाती जटिल संगमरमर की नक्काशी से सुसज्जित हैं। इन नक्काशी में विस्तार और सटीकता का स्तर शिल्पकारों के कौशल और समर्पण का प्रमाण है।
  8. मंदिरों का संरक्षण (Preservation of Temples)
    अपने ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्व के कारण, मंदिरों को सावधानीपूर्वक संरक्षित किया जाता है। आगंतुकों को मंदिर के अंदर तस्वीरें लेने की अनुमति नहीं है, ताकि फ्लैश फोटोग्राफी से संगमरमर की नाजुक नक्काशी को नुकसान न पहुंचे।
  9. आध्यात्मिक महत्व (Spiritual Significance)
    दिलवाड़ा मंदिर दुनिया भर में जैनियों के लिए एक महत्वपूर्ण तीर्थ स्थल बना हुआ है। मंदिरों का शांत वातावरण और आध्यात्मिक कंपन भक्तों को शांति और ज्ञान की तलाश में आकर्षित करते हैं।
  10. यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल (UNESCO World Heritage Site)
    अपने वास्तुशिल्प और ऐतिहासिक मूल्य की मान्यता में, दिलवाड़ा मंदिरों को 2016 में यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल के रूप में नामित किया गया था। यह सम्मान मानवता के सांस्कृतिक खजाने के रूप में उनके महत्व को और रेखांकित करता है।

यह भी पढ़ें- NEET Controversy: परीक्षा से एक दिन पहले मिला था NEET का पेपर, गिरफ्तार छात्रों ने खोले सारे राज

दिलवाड़ा मंदिर केवल मंदिरों का संग्रह नहीं है; यह प्राचीन भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत और कलात्मक कौशल का प्रमाण है। मंदिर आगंतुकों, इतिहासकारों और कला प्रेमियों के बीच समान रूप से विस्मय और प्रशंसा को प्रेरित करते हैं। समय से परे एक वास्तुशिल्प विरासत के संरक्षक के रूप में, दिलवाड़ा मंदिर भारत की समृद्ध आध्यात्मिक और कलात्मक परंपराओं के प्रतीक के रूप में खड़े हैं। दिलवाड़ा मंदिर का दौरा न केवल प्राचीन वास्तुकला के माध्यम से एक यात्रा है, बल्कि एक आध्यात्मिक अनुभव भी है जो आगंतुकों को जैन दर्शन और भक्ति के सार से जोड़ता है।

यह वीडियो भी देखें-

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.