कोरोना निर्देशों के साए में महाकुंभ!

हरिद्वार में 1 अप्रैल से कुंभ मेला शुरू होने जा रहा है लेकिन क्षेत्र में 8 महीने बाद एक बार फिर कोरोना संक्रमण के बढ़ते आंकड़ों ने प्रशासन की चिंता बढ़ा दी है।

उत्तराखंड में 1 अप्रैल से शुरू हो रहे कुंभ मेले पर भी कोरोना का साया मंडरा रहा है। इस कारण हरिद्वार, कुंभ मेले में बाहर से आने वाले लोगों के परीक्षण के लिए राज्य की सीमाओं पर प्रशासन ने कोविड परीक्षण केंद्र स्थापित किए है।

बता दें कि महाकुंभ शुरु होने से दो दिन पहले यानी 30 मार्च कोहरिपुर कलां के एक आश्रम में 32 श्रद्धालुओं के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद हड़कंप मच गया था। मामले में तत्काल कार्रवाई करते हुए प्रशासन ने आश्रम को सील कर दिया है। संक्रमितों में आश्रम के कर्मचारी, विद्यार्थी और वृद्ध लोग शामिल हैं। समझा जा रहा है कि किसी संक्रमित श्रद्धालु के संपर्क में आने से सभी लोग संक्रमित हो गए हैं। फिलहाल संक्रमितों को आश्रम के विद्यालय मे आइसोलेट किया गया है।

बढ़ गई है प्रशासन की परेशानी
हरिद्वार में 1 अप्रैल से महाकुंभ मेला शुरू होने जा रहा है लेकिन क्षेत्र में 8 महीने बाद एक बार फिर कोरोना संक्रमण के बढ़ते आंकड़ों ने प्रशासन की चिंता बढ़ा दी है। निश्चित रुप से कोरोना काल में इस वर्ष महाकुंभ मेले का आयोजन करना प्रशासन के लिए बड़ी चुनौती है।

ये भी पढ़़ेंः केरल में ‘कुंवारियों’ से अंतरराष्ट्रीय छल?

एक महीना चलेगा कुंभ मेला
इस साल हरिद्वार कुंभ मेले का शुभारंभ 1 अप्रैल से और समापन 30 अप्रैल को होगा। पहले इसकी शुरुआत 27 फरवरी को माघ पूर्णिमा के दिन से होनी थी, और समापन 27 अप्रैल को होना था, लेकिन अब कुंभ मेले की अवधि को घटाकर केवल एक महीना कर दिया गया है।

नया दिशानिर्देश जारी
कोरोना के बढ़ते आंकड़ों को देखते हुए राज्य सरकार ने नया दिशानिर्देश जारी किया है। इसके तहत 1 अप्रैल से महाराष्ट्र, केरल, पंजाब, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश और तमिलनाडु समेत 12 राज्यों से आने वाले लोगों को कोरोा निगेटिव रिपोर्ट लानी होगी।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here