चीन में कोरोना से हाहाकार, शंघाई की ‘इतनी’ आबादी हो सकती है संक्रमित

शंघाई के डेजी अस्पताल ने अपने आधिकारिक वीचैट अकाउंट में बताया कि शहर में इस समय 54 लाख से ज्यादा कोरोना संक्रमित हैं, महीने के अंत तक यह संख्या बढ़कर 1.25 करोड़ तक जा सकती है।

चीन में कोविड-19 के ओमिक्रॉन वायरस के नए वैरिएंट बीएफ-9 हाहाकार मचा रहा है। कोविड नीति में ढील के बाद शंघाई में कोरोना विस्फोट हो गया है। एक रिपोर्ट के मुताबिक, अगले सप्ताह के अंत तक ढाई करोड़ से ज्यादा आबादी वाले शहर शंघाई के आधे लोग (1.25 करोड़) कोरोना वायरस से संक्रमित हो जाएंगे।

अस्पतालों में जगह नहीं
राजधानी बीजिंग के बाद शंघाई के कोविड से बुरी तरह से प्रभावित होने की खबर सामने आई है। चीन में सड़कों पर हुए विरोध प्रदर्शनों के बाद सरकार ने इसी महीने जीरो कोविड पॉलिसी में ढील दी थी। इसके बाद देश में कोरोना विस्फोट की स्थिति पैदा हो गई है। 140 करोड़ आबादी वाले देश में कुछ हफ्तों में 80 करोड़ लोगों के संक्रमित होने की आशंका जताई जा रही है। मरने वालों की संख्या दस लाख के पार जाने की आशंका है। मौजूदा समय में मरीजों से अस्पताल भरे हुए हैं, वहां अब मरीजों को भर्ती करने के लिए जगह ही नहीं बची है। इतना ही नहीं अंत्येष्टि स्थलों पर शव लिए रिश्तेदारों की लंबी लाइनें हैं। हालात काबू करने में सरकारी तंत्र असहाय है। लेकिन सरकार लगातार सच्चाई पर पर्दा डाल रही है।

ये भी पढ़ें- लौट आया मास्कः मुंबई, दिल्ली सहित इन प्रदेशों में एडवाजरी जारी

‘हमारे पास कोई विकल्प नहीं’
सरकारी आंकड़ों में चीन में बीते तीन दिनों में कोविड से किसी की मौत नहीं हुई है। सरकारी आंकड़ों में 2019 से अभी तक मरने वालों की संख्या महज 5,241 है। शंघाई के डेजी अस्पताल ने अपने आधिकारिक वीचैट अकाउंट में बताया कि शहर में इस समय 54 लाख से ज्यादा कोरोना संक्रमित हैं, महीने के अंत तक यह संख्या बढ़कर 1.25 करोड़ तक जा सकती है। क्रिसमस, नववर्ष और मून न्यू ईयर के आयोजनों में भीड़भाड़ से संक्रमितों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी हो सकती है। डेजी अस्पताल शंघाई का बड़ा निजी अस्पताल है और उसमें 400 लोग कार्य करते हैं। अस्पताल के वीचैट अकाउंट में लिखा था, हम मुश्किल लड़ाई में फंस गए हैं। उपनगरों समेत पूरा शंघाई संक्रमित हो सकता है। अस्पताल के कर्मचारी और उनके परिवार भी कोरोना से संक्रमित होंगे। हमारे पास कोई विकल्प नहीं है, कोरोना संक्रमण से हम बच नहीं सकते। हालांकि इस पोस्ट को 22 दिसंबर की दोपहर को वीचैट से हटा दी गई है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here