‘नवरात्रि से दिवाली तक देश में लाखों करोड़ का कारोबार’, CAIT ने दावा किया

केंद्र में मोदी सरकार के आने के बाद देश में डिजिटल अर्थव्यवस्था तेजी से विकसित हुई है।

809

स्वदेशी ई-कॉमर्स कंपनी (Swadeshi E-Commerce Company) पूरी तरह से भारत ई-मार्ट (India E-Mart) डिलीवरी सिस्टम (Delivery System) के लिए तैयार हो गई है। नई दिल्ली स्थित कॉन्स्टीट्यूशन क्लब (Constitution Club) में कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (Confederation of All India Traders) ने इसको शुरू किया है। इस ई-कॉमर्स पोर्टल के जरिए छोटे व्यापारी (Small Traders) अपना बिजनेस कर सकेंगे। भारत ई-मार्ट छोटे व्यापारियों को अपने कारोबार (Business) विस्तार करने के लिए नेटवर्क भी उपलब्ध कराएगा।

ई-कॉमर्स पोर्टल कारोबार करने के लिए बेहद आवश्यक
केंद्र में मोदी सरकार आने के बाद देश में डिजिटल इकोनोमी तेजी से विकसित हुई है। कैट के महासचिव प्रवीण खंडेलवाल ने कहा कि मोदी सरकार की नीतियों के कारण देश में इंटरनेट तेजी से बढ़ रहा है। देश में 83 करोड़ इंटरनेट कनेक्शन है। एक अनुमान के अनुसार वर्ष 2025 तक इंटरनेट और स्मार्टफोन का उपयोग करने वालों की संख्या 100 करोड़ तक पहुंच जाएगी। ऐसे में व्यापार का हर क्षेत्र डिजिटल से प्रभावित हो गया है। व्यापारियों को व्यापार करने के लिए डिजिटल को अपनाना पड़ेगा। भारत ई- मार्ट की खास बात ये है कि इस ई-कॉमर्स पोर्टल पर न केवल व्यापारी व्यापार कर सकेंगे। बल्कि सभी सुविधाओं का फायदा भी उठा सकेंगे। उदाहरण के तौर पर जीएसटी और कानूनी समस्याओं का समाधान भी इस पोर्टल से प्राप्त कर सकते है।

यह भी पढ़ें- Uttarakhand: पत्नी साक्षी के साथ पैतृक गांव पहुंचे महेंद्र सिंह धोनी, कूल देवी-देवताओं की पूजा

चीन का ई-कॉमर्स कंपनियों प्रभाव कम होगा
कैट दिल्ली के अध्यक्ष विपिन आहूजा ने बताया कि मेक माई ट्रिप जैसी कंपनियों में चीन का भारी निवेश हुआ है। जिसका फायदा चीन को मिलता है। एक अनुमान के अनुसार देश के लगभग 12 लाख ट्रैवल एजेंट का कारोबार पूरी तरह से प्रभावित हो गया है। ई-कॉमर्स भविष्य का कारोबार है। कैट व्यापारियों को ई-बिजनेस करने की ट्रेनिंग देगा ताकि छोटा व्यापारी भी डिजिटल युग में अपना कारोबार बढ़ा सके।

देखें यह वीडियो- 

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.