उत्तर प्रदेश: टॉयलेट एक भ्रष्ट कथा, बिना दीवार बैठा दिया चार कमोड

उत्तर प्रदेश में भ्रष्टाचार और लापरवाही का इतना बड़ा प्रकरण सामने आया है जिससे लगता है अधिकारी वर्ग को किसी का डर ही नहीं है। केंद्र सरकार स्वच्छता मिशन के अंतर्गत शौचालय निर्माण करवा रही है।

केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजना स्वच्छ भारत मिशन के तहत ‘हर घर शौचालय’ योजना का ग्राम पंचायत अधिकारी ने खिलवाड़ बना रखा है। इसकी बानगी विकासखंड रुधौली में देखने को मिली है, जहां बिना फाटक व पार्टीशन के एक कमरे में चार सीट वाला शौचालय बना दिया। इस मामले में अधिकारियों की कार्यशैली को लेकर शुक्रवार को तरह-तरह की चर्चाएं हो रही हैं।

एडीओ पंचायत शैलेंद्र त्रिपाठी ने बताया कि बच्चों के लिए दो से तीन सीट का शौचालय बनाने का एस्टीमेट तय हुआ था, जिससे बच्चों के साथ कोई अप्रिय घटना ना हो। इसमें आधा फाटक लगाने को निर्देशित किया गया था। जब एडीओ पंचायत से शौचालय का नक्शा मांगा गया तो छुट्टी का हवाला देते हुए अगले दिन दिखाने की बात कहकर टाल गये।

ये भी पढ़ें – मॉं एक शब्द नहीं बल्कि इसमें अनंत भावनाएं समाहित हैं – नरेंद्र मोदी

इस मामले में उप जिलाधिकारी आनंद श्रीनेत हकीकत जानने मौके पर पहुंच गये। उन्होंने बीडीओ से इसको लेकर नाराजगी जाहिर की और तत्काल इस संदर्भ में शासनादेश तलब किया। उन्होंने सामुदायिक शौचालय को दुरूस्त करने के निर्देश दिए। ग्राम प्रधान से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि ग्राम पंचायत अधिकारी ने जैसा कहा था वैसा हमने बनवाया है।

मामले में उप जिलाधिकारी आनंद श्रीनेत ने सामुदायिक शौचालय चालू का शासनादेश का अवलोकन कर कार्यवाही की बात कही है।

उल्लेखनीय है कि जिले के विकासखंड कुदरहा की ग्राम पंचायत गौराधुंधा में एक ही कमरे में दो सीट लगवाने पर डीपीआरओ ने दो अधिकारियों को निलंबित कर दिया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here