दो साल बाद भक्तों ने किए सिद्धिविनायक के दर्शन! पूरी रात खुला रहा बप्पा का द्वार

सिद्धिविनायक मंदिर को कोरोना के नियमों का पालन करते हुए खोला गया। भक्तों को ऑनलाइन क्यूआर कोड के माध्यम से मंदिर में प्रवेश की अनुमति दी गई।

कोरोना संक्रमण के कारण महाराष्ट्र ही नहीं, पूरे देश का कार्यकलाप प्रभावित हुआ। इसके खतरे को देखते हुए महाराष्ट्र में भी तरह-तरह के प्रतिबंध लागू किए गए और पूजास्थलों को भी बंद कर दिया गया लेकिन अब इस महामारी से राहत मिल गई है। इसलिए, राज्य सरकार ने नवरात्रि के दौरान पूजा स्थलों को फिर से खोलने का फैसला किया था। हालांकि, मुंबई, प्रभादेवी में स्थित प्रसिद्ध श्री सिद्धिविनायक मंदिर तब भी बंद था। लेकिन अब इसे भक्तों के लिए खोल दिया गया है।

मुंबई स्थित सिद्धिविनायक मंदिर अंगारकी संकष्टि चतुर्थी के अवसर पर खोला गया है, जो हर छह महीने में आता है। भक्तों ने इसका लाभ उठाते हुए 23 नवंबर की सुबह सात बजे तक भगवान गणेश के दर्शन किए।

भक्तों में अपार श्रद्धा
भक्तों की श्रद्धा ऐसी है कि 22 नवंबर की रात करीब डेढ़ बजे से ही वे श्री सिद्धिविनायक के दर्शन करने पहुंचने लगे।मंदिर प्रशासन ने जानकारी दी थी कि मंदिर 23 नवंबर की सुबह सात बजे तक श्रद्धालुओं के लिए खुला रहेगा। सूचना मिलने के बाद से ही बप्पा के भक्त बेसब्र होने लगे थे।

कोरोना के कारण बंद थे धर्म स्थल
देश पिछले दो साल से कोरोना से त्रस्त है। इस कारण महाराष्ट्र के सभी मंदिर बंद कर दिए गए थे। राज्य में कुछ मंदिरों को लॉकडाउन के बाद फिर से खोल दिया गया, लेकिन सिद्धिविनायक मंदिर बंद ही था। लेकिन अब अंगारकी संकष्टि चतुर्थी के अवसर पर श्री सिद्धिविनायक मंदिर खोल दिया गया है।

ये भी पढ़ेंः सीजेआई ने बताया लोकतंत्र में जनता को असली मालिक, शासकों को दी यह सलाह!

कोरोना नियमों का पालन अनिवार्य
सिद्धिविनायक मंदिर को कोरोना के नियमों का पालन करते हुए खोला गया। भक्तों को ऑनलाइन क्यूआर कोड के माध्यम से मंदिर में प्रवेश की अनुमति दी गई। ढाई हजार भक्तों के दर्शन की व्यवस्था की गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here