Katihar Army Recruitment Office: साक्षी ने सीडीएस (2) में रैंक-1 हासिल कर रचा इतिहास, दूसरी लड़कियों के लिए बनी प्रेरणास्रोत

एक आर्मी परिवार में जन्मी और पली-बढ़ी साक्षी ने अपनी पूरी शिक्षा के दौरान 11 स्कूल बदले और विभिन्न खेलों में भी भाग लिया।

153

Katihar Army Recruitment Office के निदेशक कर्नल राम कुमार नरवाल की बेटी साक्षी नरवाल ने सीडीएस (2) 2023 में ऑल इंडिया रैंक-1 हासिल कर इतिहास रच दिया है।

यूपीएससी द्वारा 20 जून 2024 को अंतिम मेरिट सूची जारी की गई थी। यूपीएससी सबसे पहले लिखित परीक्षा आयोजित करता है , उसके बाद होती है 5 दिनों की कठोर चयन प्रक्रिया। जिसे सर्विस सिलेक्शन बोर्ड के नाम से जाना जाता है।

माता-पिता का सपना किया पूरा
उन्होंने न सिर्फ अपना बल्कि अपने माता-पिता का भी सपना पूरा किया है। वह तीसरी पीढ़ी की अधिकारी बनकर भारतीय सेना में सेवा करने की पारिवारिक विरासत को जारी रखेंगी। उनके पिता एक निदेशक के रूप में कार्यरत हैं और उनकी मां सीमा नरवाल जीडी गोयनका पब्लिक स्कूल पूर्णिया में एक स्टूडेंट काउंसलर हैं।

Saradha scam: ईडी की तीसरी अनुपूरक चार्जशीट में नलिनी चिदंबरम का नाम, न्यायालय ने उठाए ये सवाल

आर्मी परिवार में जन्म
एक आर्मी परिवार में जन्मी और पली-बढ़ी साक्षी ने अपनी पूरी शिक्षा के दौरान 11 स्कूल बदले और विभिन्न खेलों में भी भाग लिया। वह राष्ट्रीय स्तर की कंपाउंड तीरंदाज रह चुकी हैं। साक्षी वर्तमान में आर्मी इंस्टीट्यूट ऑफ लॉ मोहाली में कानून के अंतिम वर्ष की छात्रा हैं। यहां, वह वैकल्पिक विवाद समाधान की उत्साही रही हैं और अपने पाठ्यक्रम के दौरान उन्होंने कई प्रतियोगिताएं जीती हैं।

49 सप्ताह के सैन्य प्रशिक्षण
सफल उम्मीदवार 49 सप्ताह के सैन्य प्रशिक्षण के लिए अक्टूबर 2024 में ऑफिसर्स ट्रेनिंग अकादमी चेन्नई में शामिल होंगे। सफल समापन के बाद, साक्षी को भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट के रूप में नियुक्त किया जाएगा। वह अपनी सफलता का श्रेय अपने माता-पिता को देती हैं जो निरंतर समर्थन और मार्गदर्शन के स्रोत रहे हैं, और हमेशा उनके सबसे करीबी विश्वासपात्र बनकर उनका साथ दिया है।

Saradha scam: ईडी की तीसरी अनुपूरक चार्जशीट में नलिनी चिदंबरम का नाम, न्यायालय ने उठाए ये सवाल

लड़कियों के लिए प्रेरणास्रोत
साक्षी ने लड़कियों के लिए एक मानक स्थापित किया है और दिखाया है कि कड़ी मेहनत, समर्पण और फोकस से कुछ भी हासिल किया जा सकता है। उनका मानना है कि देश में भारतीय सेना में हरियाणा का प्रमुख योगदान रहा है और इस परंपरा को कायम रखा जाना चाहिए।

Join Our WhatsApp Community
Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.