South China Sea: भारतीय जहाज कदमत बैंकॉक पहुंचा, समुद्री साझेदारी अभ्यास में होगा शामिल! ये है उद्देश्य

बैंकॉक से प्रस्थान करने पर जहाज रॉयल थाई नेवी के कार्वेट एचटीएमएस रतनकोसिन के साथ समुद्री साझेदारी अभ्यास में हिस्सा लेगा। आईएनएस कदमत भारतीय नौसेना के चार स्वदेशी एएसडब्ल्यू कार्वेट में से दूसरा है।

1304

South China Sea: उत्तरी प्रशांत महासागर और दक्षिण चीन सागर(North Pacific Ocean and South China Sea) में अपनी लंबी दूरी की परिचालन तैनाती के हिस्से के रूप में भारतीय जहाज कदमत(Indian ship Kadmat) बैंकॉक (थाईलैंड) पहुंच गया है। इस यात्रा का उद्देश्य भारत-थाईलैंड समुद्री सहयोग(India-Thailand Maritime Cooperation) को और मजबूत करना और दोनों नौसेनाओं के बीच तालमेल को बढ़ाना है। इस समय भारतीय नौसेना अध्यक्ष एडमिरल आर हरि कुमार(Indian Navy Chief Admiral R Hari Kumar) तीन सदस्यीय भारतीय प्रतिनिधिमंडल के साथ रॉयल थाई नेवी की मेजबानी में हो रही हिंद महासागर नौसेना संगोष्ठी (आईओएनएस) में भाग लेने के लिए बैंकॉक में हैं।

नौसेना प्रमुख एडमिरल आर. हरि कुमार कर रहे हैं नेतृत्व
रॉयल थाई नेवी की मेजबानी(Royal Thai Navy hosting) में 19 दिसंबर से बैंकॉक (थाईलैंड) में हिंद महासागर नौसेना संगोष्ठी (Indian Ocean Naval Seminar) शुरू हुई। कॉन्क्लेव ऑफ चीफ्स (सीओसी) के 8वें संस्करण में नौसेना प्रमुख एडमिरल आर. हरि कुमार तीन सदस्यीय भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व कर रहे हैं। वह 21 दिसंबर को जहाज के चालक दल के साथ बातचीत करने के लिए आईएनएस कदमत का दौरा करेंगे। इसके बाद परिचालन बदलाव के दौरान निर्धारित हार्बर गतिविधियों में रॉयल थाई नेवी (आरटीएन) अकादमी के कर्मियों के साथ क्रॉस-शिप यात्रा और समुद्री साझेदारी अभ्यास होगा।

Lok Sabha से दूरसंचार विधेयक 2023 पारित, वैष्णव ने बिल को लेकर किया ये दावा

समुद्री साझेदारी अभ्यास में लेगा हिस्सा
बैंकॉक से प्रस्थान करने पर जहाज रॉयल थाई नेवी के कार्वेट एचटीएमएस रतनकोसिन के साथ समुद्री साझेदारी अभ्यास में हिस्सा लेगा। आईएनएस कदमत भारतीय नौसेना के चार स्वदेशी एएसडब्ल्यू कार्वेट में से दूसरा है। 07 जनवरी, 2016 को कमीशन किए गए इस जहाज ने मित्र देशों के साथ कई संयुक्त नौसैनिक अभ्यासों में भाग लेकर समुद्री संबंधों को बढ़ावा दिया है। यह जहाज अत्याधुनिक हथियार और सेंसर पैकेज से लैस है, जिससे यह कई प्रकार के मिशनों को अंजाम दे सकता है। यह जहाज विशाखापत्तनम स्थित भारतीय नौसेना के पूर्वी बेड़े का हिस्सा है और पूर्वी नौसेना कमान के फ्लैग ऑफिसर कमांडिंग-इन-चीफ की कमान के तहत कार्य करता है।

Join Our WhatsApp Community

Get The Latest News!
Don’t miss our top stories and need-to-know news everyday in your inbox.