योगी आदित्यनाथ की नजर 2024 के आम सभा चुनाव पर , इस तरह रख रहे हैं हर मंत्रालय पर नजर

योगी आदित्यनाथ के काम और भाजपा के कई बड़े नेताओं के कारण उत्तर प्रदेश में एक बार फिर भाजपा की वापसी हुई है। अब उनकी नजर 2024 में होने वाले आम सभा चुनाव पर है।

हर मंत्रालय के एक-एक बिंदू पर ध्यान देना। सबको जल्द ही अपना-अपना टारगेट बनाना और उसे नियत समय में पूरा करना। हर मंत्रालय के कामों पर सीएम द्वारा स्वयं नजर रखना। यह यूपी सरकार की दिनचर्या में आ गया है। शपथ के साथ ही सरकार पूरे एक्शन में है। इसका कारण है 2024 में होने वाले लोकसभा चुनाव से पूर्व सरकार विधानसभा में किये गये अधिकतर वादों को धरातल पर उतार देना चाहती है, जिससे जनता को भी दिखे कि जो कहा, वह किया।

योजनाओं को धरातल पर उतारने में भाजपा सरकार कितना सफल होगी, यह तो आने वाला समय बताएगा लेकिन अभी तक हर मंत्रालय पूरी सक्रियता दिखा रहा है। हर रोज मुख्यमंत्री किसी न किसी मंत्रालय की समीक्षा कर उन्हें तमाम योजनाओं के बारे में निर्देशित कर रहे हैं। सरकार के मुख्य एजेंडे में जन सुविधाओं के साथ ही रोजगार भी है।

युवाओं को रोजगार देने की रणनीति
युवाओं को अधिकतम रोजगार मिले, इसके लिए पूरे प्रदेश में एक साथ 21 अप्रैल को अप्रेंटिसशिप मेला लगवाया गया। जानकारों की मानें तो इसका मुख्य उद्देश्य रोजगार के साथ ही बेहतर माहौल बनाना है। इससे युवाओं में उत्साह भी पैदा होगा। कंपनियों को भी एक मंच पर एक साथ अभ्यर्थी मिल जाएंगे।

सभी पदों पर नियुक्ति
योगी आदित्यनाथ पहले ही हर विभाग से रिक्त पदों की सूची मंगा चुके हैं। उसके अनुसार विज्ञापन निकालने व आवेदन आने की भी प्रक्रिया शुरू हो गयी है। उम्मीद की जा रही है कि आने वाले दिनों में उत्तर प्रदेश सरकार हजारों युवाओं को सरकारी नौकरी दे देगी। इससे प्रत्यक्ष रोजगार मिलने के साथ ही सरकार को चुनावी माहौल बनाने में भी मदद मिलेगी।

सफाई और बिजली व्यवस्था पर ध्यान
इसके अलावा सफाई और बिजली व्यवस्था को दुरूस्त करने पर भी जोर है। हालांकि बिजली व्यवस्था में एके शर्मा के कोशिशों के बावजूद अभी तक कोई विशेष सुधार देखने को नहीं मिल रहा है। प्रदेश में अनियमित कटौती और फाल्ट की समस्या बनी हुई है लेकिन अधिकारियों में आयी सक्रियता को देखकर ऐसा लगता है कि आने वाले दिनों में सुधार हो जाएगा।

अवैध निर्माण पर एक्शन
अतिक्रमण हटाने को लेकर भी सरकार पूरे एक्शन में है। इससे यूपी में अपराधियों में डर की भावना पैदा हुई है। यह आम लोगों के दिल में भी बैठ गया है कि अपराधियों के लिए प्रदेश में जगह नहीं रह गयी है। इससे काम-काज का माहौल बनाने में सरकार को सहायता मिल रही है।

घोषणा नहीं, संकल्प पत्र
भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता मनीष शुक्ला का कहना है कि भाजपा का घोषणा पत्र नहीं होता है। उसका संकल्प पत्र होता है और जो भी हम संकल्प कर लेते हैं, उसे पूरा करना ही है। पहले दिन से ही सरकार अपनी योजनाओं के लिए पूरी तरह सक्रिय है। उसे धरातल पर उतारने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दिन-रात लगे हुए हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here