अब जनगणना भी होगी डिजिटल

जनगणना के नाम पर देश में उत्पन्न होनेवाले राजनीतिक बवाल को विराम मिलने की आशा है। ई-जनगणना के कारण राष्ट्र के संसाधन और धन की भी बचत होगी।

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने बड़ी घोषणा की है। उन्होंने बताया है कि, अगली जनगणना डिजिटल रूप से की जाएगी, इसका लाभ यह होगा कि, यह पूरी तरह से सही होगी। इसे ई-जनगणना कहा जाएगा।

गृहमंत्री ने असम के अमीगांव में 31 करोड़ की लागत से नवनिर्मित जनगणना भवन का उद्घाटन किया। इस अवसर पर उन्होंने बताया कि, असम में जनगणना भवन के बनने से पूर्वोत्तर की जनगणना और महत्वपूर्ण डेटा के गुणवत्तापूर्ण आकलन में सहायता मिलेगी। इस अवसर पर भाषा एटलस का विमोचन और जनगणना कार्यालय की नई वेबसाइट का शुभारम्भ भी किया।

ये भी पढ़ें – लखनऊ में ऐसे स्कूली वाहनों पर गिरेगी गाज, स्कूल प्रबंधकों का भी बचना होगा मुश्किल

जनगणना रजिस्टर से जुड़ेगा जन्म मृत्यु विवरण
केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने बताया कि, देश की अगली जनगणना 100 प्रतिशत पूर्ण गणना होगी। जिसे आधार मानकर अगले 25 वर्षों के विकास की योजनाएं बनाई जाएंगी। ई-जनगणना के लाभ भी अमित शाह ने बताए…

  • जन्म विवरण सीधे जनगणना रजिस्टर से जुड़ेगा
  • 18 वर्ष की आयु के बाद मतदाता सूची में आ जाएगा नाम
  • मृत्यु विवरण भी जनगणना रजिस्टर से जुड़ेगा, हट जाएगा नाम
  • नाम/पता बदलाव में होगी आसानी
  • वर्ष 2024 तक प्रत्येक जन्म और मृत्यु का डिजिटल पंजीकरण
  • जनगणना रजिस्टर होगा ऑटो अपडेट

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here